Class 8 Science Sample Paper 2022-23

Class 8 Science Sample Paper 2022-23

Science Question Paper For Class 8 | Class 8 Science Sample Paper | कक्षा 8 विज्ञान वार्षिक परिक्षा प्रश्न पत्र 2022 – जो विद्यार्थी 8वीं कक्षा की परीक्षा की तैयारी कर रहे है ,उन्हें अपनी तैयारी पिछले साल के क्वेश्चन पेपरों को देखकर करनी चाहिए . इसलिए आज हमने इस पोस्ट में 8th क्लास का विज्ञान विषय क्वेश्चन पेपर दिया गया है .जिसे देखकर आप अपनी तैयारी अच्छे से कर सकते है .और परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त कर सकता है. इसलिए आप इस Class 8 Question Paper 2022 for Science को अच्छे से करे यह आपकी परीक्षा के लिए फायदेमंद होगा .इसके अलवा भी हमारी वेबसाइट पर Class 8 Science Question Paper दिए है.

विषय-विज्ञान

कक्षा-आठवीं

समय : 3 घंटे] [ पूर्णांक : 80

निर्देश-
(i) सभी प्रश्न अनिवार्य हैं।
(ii) प्रश्नों के अंक उनके सामने दर्शाए गए हैं।
(ii) प्रश्न संख्या 1 से 15 तक सही उत्तर छाँटकर लिखिए।

Q 1. ………….. फसल वर्षा ऋतु में बोई जाती है।
(क) खरीफ
(ख) रबी
(ग) (क) और (ख) दोनों
(घ) (क) और (ख) दोनों नहीं . ..
Ans. खरीफ

Q 2. निम्न में से कौन-सा प्रतिजैविक है?
(क) सोडियम बाइकार्बोनेट
(ख) स्ट्रेप्टोमाइसिन
(ग) एल्कोहल
(घ) यीस्ट
Ans. स्ट्रेप्टोमाइसिन

Q 3. संश्लेषित रेशे का गुण नहीं है
(क) महँगा
(ख) शीघ्र सूखते हैं
(ग) आयु अधिक
(घ) रख-रखाव आसान
Ans. आयु अधिक

Q 4. निम्नलिखित में से किसको पीटकर पतली चादरों में परिवर्तित किया जा सकता है?
(क) जिंक
(ख) फॉस्फोरस
(ग) सल्फर
(घ) ऑक्सीजन
Ans. जिंक

Q 5. ………. जीव में बहुविखंडन होता है
(क) अमीबा
(ख) पैरामीशियम
(ग)कवक
(घ) प्लाजमोडियम
Ans.

Q 6. ……………. एककोशी जीव है ।
(क) स्पंज
(ख) सी-हॉर्स
(ग) युग्लीना
(घ) हाइड्रा
Ans. युग्लीना

Q 7. किशोरावस्था किस आयु तक रहती है?
(क) 15-16 वर्ष की आयु तक
(ख) 18-19 वर्ष की आयु तक
(ग) 20-21 वर्ष की आयु तक
(घ) 22-23 वर्ष की आयु तक
Ans. 18-19 वर्ष की आयु तक

Q 8. दाब बढ़ाने का उदाहरण है
(क) कुली द्वारा सिर पर कपड़े को गोल लपेटना
(ख) गाड़ियों के टायरों का चौड़ा होना
(ग) कील को नुकीला बनाना
(घ) ऊँट के पैरों का चपटा होना
Ans. कील को नुकीला बनाना

Q 9. किस तल पर घर्षण सबसे कम होगा
(क) ईंट का तल
(ख) रेत बिछा तल
(ग) समतल दर्पण वाला तल
(घ) कपड़ा बिछा तल
Ans. समतल दर्पण वाला तल

Q 10. मनुष्य में ध्वनि उत्पन्न होती है
(क) मुँह से
(ख) जीभ से
(ग) कंठ से
(घ) नाक से .
Ans. कंठ से

Q 11. क्रोमियम की परत
(क) यशद्द्वेपन
(ख) विद्युतलेपन
(ग) विद्युत संयोजन
(घ) उपर्युक्त में से कोई नहीं
Ans. विद्युतलेपन

Q 12. प्राचीन समय में लोग तड़ित से उत्पन्न चिंगारियों को समझते थे
(क) भगवान का क्रोध
(ख) भगवान का आशीर्वाद
(ग) देवताओं द्वारा आतिशबाजी करना
(घ) आवेश के कारण उत्पन्न तड़ित
Ans. भगवान का क्रोध

Q 13. नियमित परावर्तन करता है- .
(क) समतल दर्पण
(ख) चमकदार तल
(ग) पॉलिश किया तल
(घ) उपरोक्त सभी
Ans. उपरोक्त सभी

Q 14. किस ग्रह पर जीवन पाया जाता है?
(क) बुध
(ख) शुक्र
(ग) पृथ्वी
(घ) बृहस्पति
Ans. पृथ्वी

Q 15. चंद्रमा पर नहीं है
(क) धूल
(ख) गर्त :
(ग) वायुमंडल
(घ) पर्वत
Ans. वायुमंडल

Q 16. निराई से आप क्या समझते हैं?

Ans. यह खेतों में से अवांछित पौधे (खरपतवार) हटाने की विधि है। यह विधि बहुत आवश्यक है क्योंकि खरपतवार जल, पोषक, स्थान और प्रकाश के लिए फसल से स्पर्धा रखती है।

Q 17. क्या सूक्ष्मजीव बिना यंत्र की सहायता से देखे जा सकते हैं ? यदि नहीं, तो वे कैसे देखे जा सकते हैं?

Ans. सूक्ष्मजीव बहुत ही छोटे जीव हैं जिन्हें बिना यंत्र देखना संभव नहीं। कुछ सूक्ष्मजीव आवर्धन लेंस द्वारा देखे जा सकते हैं, परंतु आमतौर पर सूक्ष्मदर्शी द्वारा ही इन्हें देखना संभव है।

Q 18. खाद्य पदार्थों का संचयन करने हेतु प्लास्टिक पात्रों के उपयोग के तीन प्रमुख लाभ बताइए ।

Ans. खाद्य पदार्थ संचायन हेतु प्लास्टिक पात्रों के लाभ
(i) यह भोजन, पानी और वायु से क्रिया नहीं करते।
(ii) यह मजबूत और हल्के होते हैं।
(iii) यह विभिन्न आकार, रूप और रंग में उपलब्ध हैं।

Q 19. मनुष्य में निषेचन प्रक्रम को समझाइए |

Ans. निषेचन-वृषण, नर युग्मक, शुक्राणु पैदा करते हैं। वृषण द्वारा लाखों शुक्राणु उत्पन्न होते हैं। शुक्राणु चाहे बहुत सूक्ष्म होते हैं, परंतु प्रत्येक में एक सिर, मध्यभाग और एक पूंछ होती है।

Q 20. क्या शरीर की वृद्धि व विकास में संतुलित आहार का महत्त्व है?

Ans. संतुलित आहार, शरीर के अंगों एवं ऊतकों को प्रभावी ढंग से काम करने और स्वस्थ रखने के साथ-साथ कई बीमारियों और स्वास्थ्य जटिलताओं को दूर रखने के लिए के लिए महत्वपूर्ण विटामिन्स, फैट, प्रोटीन, कार्बोहायड्रेट, खनिज और पोषक तत्व प्रदान करता है। संतुलित आहार एक स्वस्थ शरीर के वजन को बनाए रखता है, ऊर्जा प्रदान करता है, बेहतर नींद और मस्तिष्क की कार्यक्षमता में सुधार करता है। संतुलित आहार में सभी पोषक तत्व समुचित मात्रा में उपलब्ध होते हैं, इसलिए जब भी कभी हमें भोजन पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं होता है, तो आवश्यक ऊर्जा मिलती रहने के कारण शरीर को किसी भी तरह का नुकसान नहीं होता है ।मनुष्य की उम्र के अनुसार, शरीर के सही शारीरिक विकास और निर्माण के लिए संतुलित आहार बहुत जरूरी है। संतुलित आहार शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

Q 21. ऐसे बलों के उदाहरण दो जिनमें वस्तु पर संपर्क में आने पर ही बल लगता है?

Ans. निम्न बलों को वस्तु पर लगाने के लिए संपर्क करना अनिवार्य है
1. पेशीय बल- यदि किसी वस्तु पर बल शरीर की मांसपेशियों द्वारा लगाया जाता है तो इस बल को पेशीय बल कहते हैं। पेशीय बल द्वारा विद्यालय का बस्ता उठाना, पानी से भरी बाल्टी उठाना, बैलों द्वारा बैलगाड़ी खींचना, उठना, बैठना आदि सभी कार्य किए जाते हैं। पेशीय बल बिना संपर्क के लगाना संभव नहीं है।

Q 22. आकाश में तड़ित तथा मेघगर्जन की घटना एक समय पर तथा हमसे समान दूरी पर घटित होती है। हमें तड़ित पहले दिखाई देती है तथा मेघगर्जन बाद में सुनाई देता है। क्या आप इसकी व्याख्या कर सकते हैं?

Ans. प्रकाश का वेग 3 x 108 m/s है, जबकि ध्वनि का वेग 340 m/s है। इसलिए तड़ित तथा मेघगर्जन की घटना एक ही समय तथा एक समान दूरी पर होने पर भी तड़ित प्रकाश से पहले दिखाई देगी और मेघगर्जन बाद में सुनाई देगी।

Q 23. तड़ित से अपनी सुरक्षा के तीन उपाय सुझाइए।

Ans. तड़ित से सुरक्षा के उपाय

(1) तड़ित की गरज सुनते ही किसी मकान अथवा भवन में चले जाएँ।
(2) तड़ित समय यदि वाहन में हैं, तो वाहन की खिड़कियां व दरवाजे बंद कर लें।
(3) तड़ित समय यदि खुले में है तो सिमट कर बैठ जाएं और सिर को घुटनों और हाथों के बीच रखें।

Q 24. यह दर्शाने के लिए कि आपतित किरण, परावर्तित किरण तथा आपतन बिंदु पर अभिलंब एक ही तल में होते हैं, एक … क्रियाकलाप का वर्णन कीजिए।

Ans. क्रियाकलाप-एक मेज पर एक सफेद शीट फैलाइए। इस पर MM! एक सीधी रेखा खींचिए। इस समतल दर्पण रेखा के अनुदिश समतल दर्पण की एक पट्टी ऊध्वाधर स्थिति में रखें। अब टार्च की सहायता से प्रकाश को कंघी पर पुंज इस तरह डालें कि इससे निकलने वाला प्रकाश पुंज मेज के समांतर हो। आपतित और परावर्तित किरणों का एक सुंदर पैटर्न प्राप्त होता है, एक पेंसिल से किसी आपतित किरण भी आपतित किरण पर तीन बिंदु A, B, C अंकित करें और इसकी संगत परावर्तित किरण पर बिंदु D,E,F, अंकित करें। टार्च बंद कर दें। दर्पण हटा लें। अब बिंदुओं को मिलाकर दर्पण तक बढ़ाएं। ABC रेखा MM’ को 0 पर मिलती है। इसी तरह DEF रेखा भी MM’ को O पर मिलती है। OA आपतित किरण है जबकि OF परावर्तित किरण है। O पर अभिलंब ON खींच कर आपतन कोण AON तथा परावर्तन कोण FON मापें जो बराबर होगा। आपतित किरण, परावर्तित किरण और आपतन बिंदु पर अभिलंब सभी एक ही तल (पृष्ठ) में हैं। इससे परावर्तन के दोनों नियम सत्यापित होते हैं।

Q 25. तारामंडल क्या होता है? किन्हीं दो तारामंडलों के नाम लिखिए।

Ans. आकाश में दिखने वाले तारों के समूह को तारामंडल कहते हैं। प्राचीन भारत में तारामंडल को नक्षत्र भी कहते थे। इन्हीं के आधार पर ज्योतिष वैज्ञानी भविष्यवाणियां करते थे। इतिहास में विभिन्न सभ्यताओं में तारों के बीच काल्पनिक रेखाएं खींचकर आकृतियां बनाई जाती थीं। इसीलिए प्राचीन भारत में मृगशीर्ष नामक तारामंडल का नाम सुनने को मिलता है। इसे यूनानी सभ्यता में ओरायन भी कहते थे।
दो तारामण्डलों के नाम हैं:-
1. सप्तर्षि तारामंडल
2. ओरॉयन

Q 26. बिजाई की विभिन्न विधियों के नाम लिखो तथा किसी एक का वर्णन करो।

Ans. हाथों से बिखेर कर या प्रसारण विधि, बीजवेधन या सीड ड्रिल विधि, रोपण विधि।

बीजवेधन– बीजवेधक धातु की लंबी नली होती है। इसके नीचे की और अनेक शाखाएं होती है। ऊपर बीज डालने के लिए कीप लगी होती है। बीजवैधक को हल के पिछले भाग (फाल) से बांध देते हैं। जैसे-जैसे हल भूमि में खाचे बनाता है वैसे वैसे ही बीजवेधक द्वारा बीजों की बुवाई होती है। बैलो तथा ट्रैक्टर के साथ खींचे जाने वाले बीजवेद्यक भी उपयोग में लाए जाते हैं। इस विधि द्वारा बुवाई को बीजवेधन कहते हैं।

Q 27. जीवाणुओं से होने वाली हानियों का वर्णन करो।

Ans.  1. जीवाणु मनुष्य की बीमारियों, जैसे क्षय, ( टी॰बी॰) रोग, निमोनिया, टाइफाइड, टिटनेस, हैजा, सिफलिस, कोढ, मोतीझरा, प्लेग आदि के प्रमुख कारण है।
2. पालतू जानवरों की बीमारियां, जेसे क्षय रोग, ब्लैक लैग, हैजा, भेड़ों का एंथ्रेक्स,आदि जीवाणु के कारण होती है।
3. जीवाणु पौधों को रोग ग्रस्त कर देते हैं, जैसे आलू का रतुआ, नींबू का कैंकर, सेब का चकता, मिर्च का रिंग रोग तथा संतरा, गोभी, आडू, टमाटर का सड़न रोग जीवाणु के कारण ही होता है।
4. जीवाणु हमारे भोजन, दूध, अचार, मुरब्बे, जेम, पकी सब्जियों, गूँथे आटे, मांस, मछली आदि को खराब कर देते हैं।
5. जीवाणु कागज,, कपास, कीमती लकड़ी आदि को खराब कर प्रयोग करने योग्य नहीं रहने देते।
6. कुछ जीवाणु भूमि को बंजर बना देते हैं।
7. कुछ विशेष प्रकार के जीवाणु भूमि के नीचे पेट्रोलियम को नष्ट कर उपयोगी संसाधन की कमी करते हैं।

Q 28. मेंढक, रेशम कीट व शलभ में कायांतरण के प्रक्रम को समझाइए।

Ans. विद्यार्थी स्वयं करे

Q 29. पेट्रोलियम के मुख्य उपयोग लिखें।

Ans. पेट्रोलियम से प्राप्त महत्त्वपूर्ण उत्पादों के उपयोग निम्नलिखित हैं
(1) पेट्रोल का उपयोग हल्के वाहन, जैसे स्कूटर, मोटर साइकिल व कार चलाने के लिए इंधन के रूप में किया जाता है। यह डाइक्लीनिंग में भी एक विलायक के रूप में प्रयुक्त होता है। इसका प्रयोग वायुयानों में भी ईंधन के रूप में किया जाता है।
(2) केरोसीन अर्थात् मिट्टी का तेल एक अच्छा घरेलू ईधन है। इसका उपयोग घरों में प्रकाश करने के लिए किया जाता है।
(3) डीजल का उपयोग भारी वाहनों, जैसे ट्रकों, बसों, रेलगाड़ियों में ईधन के रूप में किया जाता है। इसका उपयोग जनरेटरों में विद्युत उत्पादित करने के लिए किया जाता है।
(4) स्नेहक तेल का उपयोग मशीनों के पुजों को घर्षण से बचाने के लिए स्नेहक के रूप में किया जाता है।
(5) पैराफिन वैक्स का उपयोग मोमबत्तियाँ बनाने में व एस्फाल्ट का उपयोग सड़कें बनाने में किया जाता है।

Q 30. समझाइए कि मोटर वाहनों में सीएनजी के उपयोग से हमारे शहरों का प्रदूषण किस प्रकार कम हुआ है?

Ans. मोटर वाहनों में सीएनजी के उपयोग से हमारे शहरों का प्रदूषण कम हुआ है क्योंकि सीएनजी एक स्वच्छ गैसीय ईंधन है। इसका उच्च कैलोरी मान है। यह पूरी तरह से हवा में जलता है और किसी भी हानिकारक गैसों का उत्पादन नहीं करता है। यह जलने के बाद कोई अवशेष नहीं छोड़ता है।

Q 31. वनोन्मूलन का वन्य प्राणी, पर्यावरण तथा पृथ्वी पर क्या प्रभाव पड़ता है?

Ans. वन्य प्राणियों पर वनोन्मूलन का प्रभाव- पेड़-पौधे जंगली जानवरों को आवास और भोजन प्रदान करते हैं। वनोन्मूलन से प्राकृतिक आवास नष्ट हो जाते हैं और जानवर संकटापन्न स्पीशीज़ बन जाते हैं।

पर्यावरण पर वनोन्मूलन का प्रभाव- वनोन्मूलन से वातावरण में ऑक्सीजन की कमी आ जाती है। वर्षा और भूमि की उर्वरता में भी कमी आती है। इस कारण प्राकृतिक आपदाओं (बाढ़ और सूखा) की संभावनाएं बढ़ जाती हैं।

पृथ्वी पर वनोन्मूलन का प्रभाव- वनोन्मूलन से प्राकृतिक आपदाओं की संभावना बढ़ती है। वनोन्मूलन से विश्व ऊष्मण में वृद्धि होती है। कम पेड़ों का अर्थ है, मृदा अपरदन ।

Q 32. स्पष्ट करो धक्का देने पर टायर की चाल क्यों बढ़ जाती है?

Ans. टायर पर लगाया गया बल टायर की गति की दिशा में है और जब बल गति की दिशा में लगाया जाता है तो वस्तु की चाल बढ़ जाती है। यही कारण है कि धक्का देने पर गतिशील टायर अधिक चाल से भागना शुरू कर देता है।

Q 33. घर्षण कैसे उत्पन्न होता है? स्पष्ट करो।

उत्तर- जब दो पिंड परस्पर संपर्क में होते हैं एवं एक वस्तु दूसरी वस्तु के पृष्ठ पर गति करती है। तो इनके संपर्क तलों के बीच एक बल कार्य करता है। जो वस्तुओं की गति का विरोध करता है इस बल को घर्षण बल (friction force in Hindi) कहते हैं।

Q 34. आपतित किरण, परावर्तित कोण, आपतन बिंदु को परिभाषित करें।

उत्तर- आपतित किरण- प्रकाश-स्रोत से किसी दी हुई सतह पर पड़ने वाली प्रकाश किरण को आपतित किरण कहते हैं।

परावर्तन कोण- परावर्तित किरण तथा अभिलंब के बीच के कोण को परावर्तन कोण कहते हैं।

आपतन बिंदु-आपतित किरण जिस बिंदु पर पंरावर्तक सतह से आकर टकराती है, उसे आपतन बिंदु कहते हैं।

Q 35. जल प्रदूषण को दूर करने के उपायों का वर्णन करो।

Ans. विद्यार्थी स्वयं करे

Q 36. जंग क्या है? लोहे को जंग लगने के लिए आवश्यक शर्तों क्या हैं? इसे जंग लगने से कैसे बचाया जा सकता है?

Ans. विद्यार्थी स्वयं करे

37. पादप कोशिका का नामांकित चित्र बनाएं।

Ans. विद्यार्थी स्वयं करे

Q 38. संपरीक्षित्र का परीक्षण कैसे करेंगे? यदि संपरीक्षित्र कार्य नहीं कर रहा है तो इसके संभावित कारण क्या हो सकते हैं? क्या ऐसा संपरीक्षित्र बनाया जा सकता है जो विद्युत धारा के चुंबकीय प्रभाव पर आधारित हो?

Ans. विद्यार्थी स्वयं करे

इस पोस्ट में आपको Class 8 Science Exam Paper 2022 Class 8 Science Sample Question Paper with Solutions ncert sample papers for class 8 science 2022 class 8 science term 2 question paper 2022 Class 8 Science Mid Term Sample Paper 2022 Class 8th science question paper download कक्षा 8 विज्ञान पेपर 2022 कक्षा 8 विज्ञान परीक्षा प्रश्न पत्र 2022 कक्षा 8 विज्ञान मॉडल पेपर 2022 कक्षा 8 का विज्ञान का पेपर कक्षा 8 विज्ञान नमूना पेपर 2022 से संबंधित पूरी जानकारी दी गई है अगर अभी भी इसके बारे में आपका कोई भी सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट करके जरूर पूछें.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!