Class 6 Social Science History Chapter 9 – व्यापारी, राजा और तीर्थयात्री

Class 6 Social Science History Chapter 9 – व्यापारी, राजा और तीर्थयात्री

NCERT Solutions For Class 6 Social Science History Chapter 9. व्यापारी, राजा और तीर्थयात्री – जो विद्यार्थी 6th कक्षा में पढ़ रहे है ,उन सब का सपना होता है कि वे अपनी कक्षा में अच्छे अंक से पास हो ,ताकि उन्हें आगे एडमिशन या किसी नौकरी के लिए फॉर्म अप्लाई करने में कोई दिक्कत न आए . इसलिए आज हमने इस पोस्ट में एनसीईआरटी कक्षा 6 सामाजिक विज्ञान इतिहास अध्याय 9 (व्यापारी, राजा और तीर्थयात्री) का सलूशन दिया गया है जोकि एक सरल भाषा में दिया है . क्योंकि किताब से कई बार विद्यार्थी को प्रश्न समझ में नही आते .इसलिए यहाँ NCERT Solutions For Class 6th History Chapter 9 Traders, Kings and Pilgrims दिया गया है. जो विद्यार्थी छठी कक्षा में पढ़ रहे है उन्हें इसे अवश्य देखना चाहिए . इसकी मदद से आप अपनी परीक्षा में अछे अंक प्राप्त कर सकते है. इसलिए आप Ch .9 व्यापारी, राजा और तीर्थयात्री के प्रश्न उत्तरों ध्यान से पढिए ,यह आपके लिए फायदेमंद होंगे

कक्षा: 6th Class
अध्याय: Chapter 9
नाम: अशोकः एक अनोखा सम्राट जिसने युद्ध का त्याग किया
भाषा: Hindi
पुस्तक: हमारे अतीत

NCERT Solutions for Class 6 इतिहास (हमारे अतीत – I) Chapter 9 व्यापारी, राजा और तीर्थयात्री

अभ्यास के सभी प्रश्न

प्रश्न 1. निम्नलिखित के उपयुक्त जोड़े बनाओ
दक्षिणापथ के स्वामी बुद्धचरित
मुवेन्दार महायान बौद्ध
धर्म अश्वघोष सातवाहन शासक
बोधिसत्व चीनी यात्री
श्वैन त्सांग चोल, चेर, पांड्य

उत्तर.   दक्षिणापथ के स्वामी – सातवाहन शासक
मुवेन्दार – चोल, चेर, पांड्य
अश्वघोष – महायान बौद्ध धर्म
बोधिसत्व – बौद्धचरित
श्वैन त्सांग – चीनी यात्री

प्रश्न 2. राजा सिल्क रूट पर अपना नियन्त्रण क्यों स्थापित करना चाहते थे ?

उत्तर.   सिल्क रूट के द्वारा चीन से विदेशों को रेशम का निर्यात किया जाता था। सभी राजा सिल्क रूट के बड़े-बड़े हिस्सों पर अपना नियन्त्रण करना चाहते थे क्योंकि इस रास्ते पर यात्रा कर रहे व्यापारियों से उन्हें कर, शुल्क तथा तोहफों के रूप में लाभ मिलता था। इसके बदले में ये राजा उन व्यापारियों को अपने राज्य से गुजरते वक्त लुटेरों के आक्रमणों से सुरक्षा देते थे।

प्रश्न 3. व्यापार तथा व्यापारिक रास्तों के बारे में जानने के लिए इतिहासकार किन-किन साक्ष्यों का उपयोग करते हैं ?

उत्तर.   व्यापार तथा व्यापारिक रास्तों के बारे में जानने के लिए इतिहासकार निम्नलिखित साक्ष्यों का उपयोग करते हैं

(1) प्राप्त विदेशी सिक्के और मुहरें,
(2) कलाकृतियों के नमूने,
(3) बर्तनों के डिजाइन,
(4) बन्दरगाहों के अवशेष,
(5) नावों और जलयानों के मार्ग,
(6) पाण्डुलिपियाँ।

प्रश्न 4. भक्ति की प्रमुख विशेषताएँ क्या थी ?

उत्तर.   भक्ति शब्द का अर्थ है भगवान् और भक्त के बीच परस्पर एक अन्तरंग सम्बन्ध । भक्ति भगवान् के प्रति झुकाव है। भक्ति की मुख्य विशेषताओं का वर्णन निम्नलिखित है

(1) भक्ति मार्ग अपनाने वाले लोग आडम्बर के साथ पूजा-पाठ करने के बजाए ईश्वर के प्रति लगन और व्यक्तिगत पूजा पर जोर देते थे।
(2) भक्ति मार्ग अपनाने वालों का यह मानना था कि अगर अपने आराध्य देवी या देवता की सच्चे मन से पूजा की जाए, तो वह उसी रूप में दर्शन देंगे, जिसमें भक्त उसे देखना चाहता है।
(3) भक्ति का मार्ग सबके लिए खुला था चाहे वह धनी हो या गरीब, ऊँची जाति का हो या नीची जाति का, स्त्री हो या पुरुष।
(4) भक्ति में देवी-देवताओं का विशेष सम्मान होता था। इसलिए विशेष जगहों पर ही इनकी मूर्तियों को रखा जाता था।
(5) भक्ति परम्परा ने चित्रकला, शिल्पकला और स्थापत्य कला के माध्यम से अभिव्यक्ति की प्रेरणा दी है।

प्रश्न 5. चीनी तीर्थ यात्री भारत क्यों आए ? कारण बताओ।

उत्तर.   चीनी तीर्थ यात्री भगवान बुद्ध के जीवन से जुड़ी जगहों और प्रसिद्ध मठों को देखने के लिए भारत आए थे। इन तीर्थ यात्रियों में फा-शिएन (1600 साल पहले), श्वैन त्सांग (1400 साल पहले) और इत्सिंग (1350 साल पहले) प्रमुख थे। इनमें से प्रत्येक तीर्थ यात्री ने अपनी यात्रा का वर्णन लिखा है।

प्रश्न 6. साधारण लोगों के भक्ति के प्रति आकर्षित होने के कौन-से कारण होते हैं ?

उत्तर.  साधारण लोगों का भक्ति के प्रति आकर्षित होने के मुख्य कारण निम्नलिखित हैं

(1) भक्ति का पथ सबके लिए खुला होता है। इसमें अमीर-गरीब, ऊँची जाति, नीची जाति और स्त्री तथा पुरुष किसी भी आधार पर कोई भेदभाव नहीं किया जाता है।
(2) भक्ति मार्ग में आडम्बर का कोई स्थान नहीं होता है। इसमें ईश्वर के प्रति लगन और व्यक्तिगत पूजा पर जोर दिया जाता
(3) भक्ति मार्ग में सच्चे मन से आराध्य देव के प्रति समर्पण की भावना होती है।

व्यापारी, राजा और तीर्थयात्री पाठ के अति लघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1. दक्षिण भारत किस चीज के लिए प्रसिद्ध था ?

उत्तर. सोना, मसाले और कीमती पत्थरों के लिए।

प्रश्न 2. किस चीज को ‘काला सोना’ के नाम से जाना जाता था ?

उत्तर. काली मिर्च को।

प्रश्न 3. काली मिर्च का निर्यात कहाँ पर किया जाता था ?

उत्तर. रोम में।

प्रश्न 4. मुवेन्दार की चर्चा कहाँ मिलती है ?

उत्तर.   -संगम कविताओं में।

प्रश्न 5. मुवेन्दार शब्द का प्रयोग किन तीन शासक परिवारों के मुखियाओं के लिए किया गया है ?

उत्तर. चोल, चेर तथा पांड्य।

प्रश्न 6. चोल राज्य का प्रमुख पत्तन क्या था ?

उत्तर. पुहार या कावेरीपट्टिनम।

प्रश्न 7. पांड्यों की राजधानी का क्या नाम था ?

उत्तर. मदुरै।

प्रश्न 8. पश्चिम भारत का प्रमुख राजवंश कौन-सा था ?

उत्तर. सातवाहन।

प्रश्न 9. सातवाहनों का सबसे प्रमुख राजा कौन था ?

उत्तर. गौतमीपुत्र श्री सातकर्णी।

प्रश्न 10. किन राजाओं को दक्षिणापथ के स्वामी कहा जाता था ?

उत्तर. सातवाहन राजाओं को।

प्रश्न 11. दक्षिणापथ का शाब्दिक अर्थ क्या है ?

उत्तर. दक्षिण की ओर जाने वाला रास्ता।

प्रश्न 12. रेशम बनाने की तकनीक का आविष्कार सबसे पहले किस देश में हुआ ?

उत्तर. चीन में।

प्रश्न 13. चीन में रेशम बनाने की तकनीक का आविष्कार कब हुआ ?

उत्तर. लगभग 7000 साल पहले।

प्रश्न 14. सिल्क रूट पर नियन्त्रण रखने वाले शासकों में सबसे प्रसिद्ध शासक कौन थे?

उत्तर. कुषाण।

प्रश्न 15. कुषाणों का सबसे प्रसिद्ध राजा कौन था ?

उत्तर. -कनिष्क।

प्रश्न 16. कनिष्क ने भारत पर कब शासन किया?

उत्तर. लगभग 1900 साल पहले।

प्रश्न 17. बुद्ध की जीवनी बुद्धचरित की रचना किसने की ?

उत्तर. अश्वघोष ने।

प्रश्न 18. बौद्ध धर्म की दो धाराएँ कौन-कौन सी हैं ?

उत्तर.  हीनयान और महायान।

प्रश्न 19. बोधिसत्व किसे कहते थे ?

उत्तर. वे लोग जो ज्ञान-प्राप्ति के बाद एकान्तवास करते हुए ध्यान साधना करते थे, उन्हें बोधिसत्व कहते थे।

प्रश्न 20. तीर्थ यात्री किसे कहते हैं ?

उत्तर. वे स्त्री-पुरुष जो प्रार्थना के लिए पवित्र स्थानों की यात्रा किया करते हैं, उन्हें तीर्थ यात्री कहते हैं।

प्रश्न 21. फा-शिएन कौन था ?

उत्तर.  फा-शिएन एक चीनी बौद्ध तीर्थ यात्री था।

प्रश्न 22. फा-शिएन भारत कब आया ?

उत्तर. लगभग 1600 साल पहले।

प्रश्न 23. श्वैन त्सांग कौन था ?

उत्तर. श्वैन त्सांग एक चीनी बौद्ध तीर्थ यात्री था।

प्रश्न 24. श्वैन त्सांग भारत कब आया ?

उत्तर. लगभग 1400 साल पहले।

प्रश्न 25. इत्सिंग कौन था ?

उत्तर. इत्सिंग एक चीनी बौद्ध तीर्थ यात्री था।

प्रश्न 26. इत्सिंग भारत कब आया ?

उत्तर.  लगभग 1350 साल पहले।

प्रश्न 27. फा-शिएन ने चीन लौटने के लिए अपनी यात्रा कहाँ से शुरु की ?

उत्तर.  बंगाल से।

प्रश्न 28. फा-शिएन को जावा पहुँचने में कितना समय लगा ?

उत्तर. 90 दिन।

प्रश्न 29. भक्ति किसे कहते हैं ?

उत्तर. किसी देवी या देवता के प्रति लगाव को भक्ति कहते हैं।

प्रश्न 30. हिन्दुओं के किस पवित्र ग्रन्थ में भक्ति मार्ग की चर्चा है ?

उत्तर -श्रीमद्भागवद् गीता में।

प्रश्न 31. भक्ति भजू शब्द से बना है, इस शब्द का क्या अर्थ है ?

उत्तर.  विभाजित करना या हिस्सेदारी।

प्रश्न 32. अप्पार ने शिव भक्ति की कविताएँ कब लिखी ?

उत्तर.  करीब 1400 साल पहले।

प्रश्न 33. अप्पार ने शिव भक्ति की कविताएँ किस भाषा में लिखी ?’

उत्तर. तमिल में।

प्रश्न 34. मन्दिर किसे कहते हैं ?

उत्तर. जिस स्थान पर देवी-देवताओं की मूर्तियों को सम्मानपूर्वक रखा जाता है।

प्रश्न 35. हिन्दू शब्द कहाँ से निकला हैं ?

उत्तर. सिन्धु या इण्डस से।

प्रश्न 36. अरब तथा ईरानी किन लोगों को हिन्दू कहते थे ?

उत्तर. सिन्धु नदी से पूर्व में रहने वाले लोगों को।

प्रश्न 37. ईसाई धर्म का उदय कब हुआ?

उत्तर. लगभग 2000 साल पहले।

प्रश्न 38. ईसाई धर्म की स्थापना किसने की?

उत्तर. -ईसा मसीह ने।

प्रश्न 39. ईसा मसीह का जन्म किस स्थान पर हुआ था ?

उत्तर. बेथलेहम में।

प्रश्न 40. केरल में रहने वाले ईसाइयों को किस नाम से जाना जाता है ?

उत्तर. सिरियाई ईसाइयों के नाम से।

इस पोस्ट में आपको Class 6 Social Science History Chapter 9 Vyapari, Raja aur Tirthyatri Questions Class 6 Social Science History Chapter 9 – व्यापारी, राजा और तीर्थयात्री कक्षा 6 इतिहास अध्याय 9 के लिए एनसीईआरटी समाधान व्यापारी, राजा और तीर्थयात्री traders, kings and pilgrims question answers ncert class 6 history chapter 9 traders, kings and pilgrims Class 6 History Chapter 10 Questions and answers Class 6 History Chapter 9 notes in Hindi
व्यापारी, राजा और तीर्थयात्री कक्षा 6 के नोटस से संबंधित काफी महत्वपूर्ण जानकारी दी गई है यह जानकारी फायदेमंद लगे तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और इसके बारे में आप कुछ जानना यह पूछना चाहते हैं तो नीचे कमेंट करके अवश्य पूछे.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!