वचन किसे कहते है एकवचन बहुवचन के उदाहरण

वचन किसे कहते है एकवचन बहुवचन के उदाहरण

वचन का शाब्दिक अर्थ है- ‘संख्यावचन’। ‘संख्यावचन’ को ही संक्षेप में ‘वचन’ कहते है। वचन का अर्थ कहना भी है। शब्द के जिस रूप से उसके एक अथवा अनेक होने का पता चले, उसे वचन कहते हैं|
दूसरो शब्दों में – संज्ञा के जिस रूप से संख्या का पता चलता हो ,उसे वचन कहते है |जैसे –
1. फ्रिज में सब्जियाँ रखी हैं
2. तालाब में मछलियाँ तैर रही हैं
3. माली पौधे सींच रहा है
4. अध्यापक बच्चों को पढ़ा रहा है
इन वाक्यों में फ्रिज, तालाब, माली, अध्यापक शब्द उनके एक होने का तथा सब्जियाँ, मछलियाँ, पौधे,बच्चों शब्द उनके एक से अधिक होने के बारे में बता रहे हैं|अतः यहाँ फ्रिज, तालाब, माली,अध्यापक एकवचन के शब्द हैं तथा सब्जियाँ, मछलियाँ, पौधे, बच्चों बहुवचन के शब्द।

वचन के प्रकार

वचन के दो प्रकार हैं –
1. एकवचन
2. बहुवचन

1. एकवचन किसे कहते है
संज्ञा के जिस रूप से एक वस्तु ,प्राणी या पदार्थ आदि पता चलता हो ,उन्हें एकवचन कहते है |जैसे – बच्चा, कपड़ा, माता, पुस्तक ,बकरी ,गाडी ,लड़का ,नदी ,गाय, सिपाही ,बेटी, घोड़ा,टोपी, बंदर, मोर ,माली ,अध्यापक आदि

2. बहुवचन किसे कहते है
संज्ञा के जिस रूप से एक से अधिक वस्तुओं , पदार्थों या प्राणियों आदि पता चलता हो, उन्हें बहुवचन कहते है |जैसे – लड़कियाँ , बेटियाँ ,स्त्रियाँ, घोड़े, नदियाँ, मालाएँ, माताएँ ,गाड़ियाँ ,बकरियाँ ,पुस्तके आदि

वचन संबंधी कुछ नियम

हिंदी में एक वचन के लिए एकवचन और एक से अधिक वचन के लिए बहुवचन का प्रयोग होता है |इन सामान्य नियम के अलावा वचन के कुछ अन्य नियम और भी है ,जिसे ध्यान में रखना आवश्यक है
1. सम्मान या आदर के लिए भी बहुवचन का प्रयोग होता है। जैसे-
(i) गुरुजी आज नहीं आये
(ii) पापाजी कल मुंबई जायेंगे
(iii) गाँधी जी छुआछूत के विरोधी थे
(iv) श्री रामचंद्र वीर थे
इन वाक्यों में एक व्यक्ति का वर्णन है ,परंतु सम्मान या आदर के लिए बहुवचन का प्रयोग किया गया है |इसे आदरार्थक बहुवचन कहते है |

2. हस्ताक्षर , प्राण, दर्शन, लोग, दर्शक, समाचार, दाम, होश, भाग्य आदि ऐसे शब्द है जिनका प्रयोग होता ही बहुवचन में ही होता है| जैसे –
(i) आपके हस्ताक्षर तो विचित्र है
(ii) लोग कहते है
(iii) आपके दर्शन तो दुर्लभ है
(iv) तुम्हारे दाम बड़े है
इन वाक्यों हस्ताक्षर,लोग ,दर्शन तथा दाम पहले से ही बहुवचन होता है |

3. बड़प्पन दिखाने के लिए कभी -कभी कुछ लोग वह के स्थान पर वे और मैं के स्थान हम का प्रयोग करते हैं|जैसे –
(i) ‘हमें’ याद नहीं कि हमने कभी ‘आपसे’ ऐसा कहा हो
(ii) आज पिता जी आए तो वे प्रसन्न दिखाई दे रहे थे

4. जनता ,वर्षा ,तेल, घी, दूध तथा पानी शब्द पहले एकवचन में प्रयुक्त होते है |जैसे-
(i) सिंहासन खाली करो कि जनता आती है
(ii) इतनी वर्षा हुई कि सारे नगर में पानी भर गया

5. कुछ एकवचन संज्ञा शब्दों के साथ गुण ,लोग ,जन ,समूह ,वृंद, दल, गण, जाति आदि शब्द उनका बहुवचन में प्रयोग किया जाता है |जैसे –
(i) छात्रगण परीक्षा की तैयारी में व्यस्त हैं
(ii) सैनिक दल शत्रु का दमन कर रहा है
(iii) मजदूर लोग काम कर रहे हैं
(iv) स्त्री जाति संघर्ष कर रही है

6. व्यक्तिवाचक और भाववाचक संज्ञाएँ भी एकवचन में प्रयुक्त होती है |जैसे –
(i) सरला आठवीं कक्षा में पढ़ती हैं
(ii) सत्य की ही विजय होती है

7. जातिवाचक संज्ञायें दोनों ही वचनों में प्रयुक्त होती है।
जैसे-
(i)’कुत्ता’ भौंक रहा है
(ii) ‘कुत्ते’ भौंक रहे है
परन्तु धातुओं का बोध कराने वाली जातिवाचक संज्ञायें एकवचन में ही प्रयुक्त होती है। जैसे-
(i) ‘सोना’ महँगा है
(ii) ‘चाँदी’ सस्ती है

एकवचन से बहुवचन बनाने के नियम

1. आकारान्त पुल्लिंग शब्दों में ‘आ’ के स्थान पर ‘ए’ लगाने से एकवचन से बहुवचन में बदल जाता है|जैसे-

एकवचन बहुवचन एकवचन बहुवचन
कुत्ता कुत्ते लड़का लडके
घोडा घोड़े कौआ कौए
पेड़ा पड़े गधा गधे
केला केले बेटा बेटे
जूता जुटे कपड़ा कपड़े
तारा तारे मुर्गा मुर्गे

2. अकारांत स्त्रीलिंग शब्द के अंत में ‘अ’ के स्थान पर ‘ए’ लगाने से एकवचन से बहुवचन में बदल जाता है|जैसे-

एकवचन बहुवचन एकवचन बहुवचन
कलम कलमें आँख आँखे
बहन बहनें दवात दवातें
पुस्तक पुस्तकें रात रातें
सड़क सड़के बात बातें

3. जिन स्त्रीलिंग संज्ञाओं के अन्त में ‘या’ होता है, उनमें ‘या’ के ऊपर चन्द्र बिन्दु लगाने से एकवचन से बहुवचन में बदल जाता है|जैसे-

एकवचन बहुवचन एकवचन बहुवचन
बुढ़िया बुढ़ियाँ चुहिया चुहियाँ
चिडिया चिड़ियाँ कुतिया कुतियाँ
गुडिया गुड़ियाँ डिबिया डिबियाँ
गैया गैयाँ खटिया खटियाँ

4. इकारांत अथवा ईकारांत स्त्रीलिंग शब्दों के अंत में ‘याँ’ लगा देने से और दीर्घ ई को ह्रस्व इ कर देने से शब्द बहुवचन में बदल जाते हैं। जैसे-

एकवचन बहुवचन एकवचन बहुवचन
तिथि तिथियाँ रीती रीतियाँ
नारी नारियाँ गति गतियाँ
नीति नीतियाँ कली कलियाँ
थाली थालियाँ लडकी लडकियाँ
नदी नदियाँ टोपी टोपियाँ

5. आकारांत स्त्रीलिंग एकवचन संज्ञा-शब्दों के अन्त में ‘एँ’ लगाने से एकवचन से बहुवचन में बदल जाता है|जैसे-

एकवचन बहुवचन एकवचन बहुवचन
कन्या कन्याएँ भुजा भुजाएँ
शाखा शाखाएँ अध्यापिका अध्यापिकाएँ
माता माताएँ पत्रिका पत्रिकाएँ
कला कलाएँ कविता कविताएँ
लता लताएँ कथा कथाएँ
कामना कामनाएँ वस्तु वस्तुएँ

6) कुछ शब्दों में अंतिम उ, ऊ और औ के साथ एँ लगा देते हैं और दीर्घ ऊ के साथन पर ह्रस्व उ हो जाता है। जैसे-

एकवचन बहुवचन एकवचन बहुवचन
गौ गौएँ बहू बहूएँ
वधू वधूएँ वस्तु वस्तुएँ
धेनु धेनुएँ धातु धातुएँ

8) संज्ञा के पुंलिंग अथवा स्त्रीलिंग रूपों में ‘गण’ ‘वर्ग’ ‘जन’ ‘लोग’ ‘वृन्द’ ‘दल’ आदि शब्द जोड़कर भी शब्दों का बहुवचन बना देते हैं। जैसे-

एकवचन बहुवचन एकवचन बहुवचन
सेना सेनादल गुरु गुरजन
स्त्री स्त्रीजन अधिकारी अधिकारीवर्ग
गरीब गरीब लोग मित्र मित्रवर्ग
श्रोता श्रोताजन पाठक पाठकगण
अध्यापक अध्यापकवृंद विद्यार्थी विद्यार्थीगण
नारी नारीवृंद आप आपलोग

9. कुछ शब्दों के रूप ‘एकवचन’ और ‘बहुवचन’ दोनो में समान होते हैं। जैसे-

एकवचन बहुवचन एकवचन बहुवचन
नेता नेता जल जल
राजा राजा गिरी गिरी
पिता पिता योद्धा योद्धा
चाचा चाचा फल फल
क्षमा क्षमा पानी पानी
प्रेम प्रेम क्रोध क्रोध
बाजार बाजार फूल फूल
दादा दादा छात्र छात्र

इस पोस्ट में आपको वचन किसे कहते है एकवचन बहुवचन के उदाहरण, वचन के उदाहरण , वचन बदलो examples , वचन बदलो list , वचन किसे कहते है , वचन बदलो इन हिंदी , वचन बदलिए , वचन परिवर्तन , वचन की परिभाषा के बारे में बताया गया अगर इसके अलवा आपको कोई भी सवाल है नीचे कमेंट करके पूछे .

वचन
Comments (7)
Add Comment
  • Ajith

    What is the rule to recognise point no :9 given above description.

    • तहसीन फातिमा

      बहुत अच्छी तरह से विवेचन किया गया HAI

    • हिंदी सामान्य ज्ञान

      अगर आपको हिंदी अच्छे से आती है तो आप इसे बोल कर ही पहचान सकते है .

  • बचन सिंह माहेश्वर

    बहुत ही अच्छा विश्लेषण किया गया है।

  • Alfaiz

    दिए गए वाक्यों में कोष्टक वाले शब्दों के लिंग, वचन लिखें।

    क. उनका {ध्यान} आकृष्ट हुआ।
    ख. खूब पके-पके {अमरूद} लगे थे।
    ग. मुझे कुछ लिखते रहने को {प्रोत्साहित} किया।
    घ. सीधा {पल्ला} उनकी वेशभूषा की विशेषता थी।
    ङ. तुम्हारी {जलेबियाँ} किसने बिखेर दीं?
    च. से सफेद सूती {धोती} ही पहनती थी।

  • Santosh

    Bazar aur tyohar Ka bahuwachan?

  • Virendra dubey

    जनता कौन सा बचन है?
    एक वचन या बहुवचन