विषाणुओं जीवाणुओं और प्रोटोजोआ से होने वाले रोग और प्रभावित अंग

विषाणुओं जीवाणुओं और प्रोटोजोआ से होने वाले रोग और प्रभावित अंग

Diseases and affected organisms caused by viruses and bacteria and protozoa : आज हम आपको इस पोस्ट में बहुत ही बढ़िया और महत्वपूर्ण जानकारी देंगे यह जानकारी आपके लिए बहुत ही जरूरी है. आज हम आपको इस पोस्ट में आपको कुछ ऐसे रोगों के बारे में बताएंगे जो कि बहुत ही भयानक रोग है. और उन लोगों से कई बार आदमी की मौत तक हो जाती है. उसके लक्षणों के बारे में बताएंगे उस से कौन-कौन से अंग प्रभावित होते हैं. उससे क्या-क्या प्रभाव हमारे शरीर पर पड़ता है. उन सभी रोगों के बारे में अच्छी तरह से जानकारी आज हम आपको इस पोस्ट में देंगे. यह जानकारी आपके लिए जानना बहुत जरूरी ही नहीं बल्कि यह आपके लिए 2 तरह से फायदेमंद साबित होगी पहला तो यह आपके लिए जानना और भी जरूरी है.

क्योंकि अगर आपके आसपास भी ऐसी कोई बीमारी है. क्या आप के घर में भी इस तरह की कोई जानकारी है. तो आप उस बीमारी से बच सकते हैं. और दूसरी जानकारी में जो रोगों के बारे हम बताएंगे उनमें से बहुत से प्रश्न कई बार आपके एग्जाम में पूछे जाते हैं. अगर आप इस जानकारी के पूरे और अच्छी तरह से पढ़ते हैं और याद करते हैं तो यह आपके लिए दोनों तरह से ही फायदेमंद साबित होगी तो आप भी जानकारी अच्छी तरह से पढ़े देखिए.

विषाणुओं जीवाणुओं और प्रोटोजोआ से होने वाले रोग

1.एड्स रोग से कौन सा अंग प्रभावित होता है कौन-कौन से लक्षण होते हैं.
उत्तर. एड्स रोग से संपूर्ण मनुष्य का रोग ग्रस्त होता है और इसके प्रमुख लक्षण जैसे कमजोरी प्रतिरोधक शक्ति की समाप्ति श्वेत रक्त कणिकाओं का क्षय

2.पोलियो रोग से कौन-कौन सा अंग प्रभावित होता है और इसकी कौन-कौन से लक्षण है.
उत्तर.पोलियो रोग से मनुष्य का तंत्रिका तंत्र प्रभावित होता है. और इसके लक्षणों में मुख्य रूप से मांसपेशियों के संकुचन में अवरोध तथा हाथ और पैरों में लकवा शामिल है.

3.चेचक रोग के कौन-कौन से लक्षण है. और इससे हमारे शरीर का कौन सा अंग ज्यादा प्रभावित होता है.
उत्तर. चेचक रोग से हमारे शरीर का सबसे ज्यादा चेहरा प्रभावित होता है. और उसके साथ-साथ हाथ, पैर भी प्रभावित हो सकते हैं. और इसके लक्षण जैसे ज्वर, पीड़ा, जलन में देखेंगे. और संपूर्ण शरीर पर फफोले जैसे लक्षण दिखाई देते हैं.

4.खसरा रोग से कौन-कौन से अंग प्रभावित होते हैं. तथा इसके कौन-कौन से लक्षण है.
उत्तर.खसरा रोग चाहिए हमारा पूरा शरीर प्रभावित होता है. और इसमें मुख्य रूप से ज्वर, पीड़ा, संपूर्ण शरीर में खराश ,आंखों में जलन, आंख और नाक से द्रव का बहना यह लक्षण देखे जा सकते हैं.

5.रोहे ट्रेकोमा रोग से कौन-कौन से अंग प्रभावित होते हैं और इसके कौन-कौन से लक्षण हैं.
उत्तर. इस रोग से हमारी आंखों पर प्रभाव पड़ता है. और इस रोग के लक्षणों में हमारे आंखों में सूजन, जलन तथा पानी बहने जैसी समस्याएं होने लगती है

6.मस्तिष्क शोथ या इंसेफेलाइटिस रोग से हमारे शरीर का कौन सा अंग प्रभावित होता है और इसके लक्षणों में क्या-क्या चीजें पाई जाती है.
उत्तर. इस रोग से हमारे तंत्रिका तंत्र पर प्रभाव पड़ता है और इसके लक्षणों में जरूर बेचैनी, दृष्टि दोष, अनिंद्रा तथा बेहोशी की समस्याएं उत्पन्न होती है,

7.हर्पीस रोज से कौन-कौन से अंग प्रभावित होते हैं तथा इसके लक्षणों में मुख्य रुप से क्या-क्या चीजें देखी जा सकती है.
उत्तर. हर्पीस रोग के कारण हमारे शरीर की त्वचा और श्लेष्मकला प्रभावित होती है. और इसके लक्षणों में मुख्य रूप से त्वचा में जलन. बेचैनी. शरीर पर फोड़े जैसी दिक्कत होती है.

8.पागल कुत्ते के काटने से होने वाले रोग के कारण हमारे शरीर पर क्या प्रभाव पड़ते हैं और इसके क्या क्या लक्षण दिखाई देते हैं.
उत्तर. इसके कारण कुछ भी हो सकता है वह इस के काटने से बेहोशी तथा बेचैनी सी समस्याएं दिखाई देती है.और ज्यादातर देखा गया है कि इसके कारण मनुष्य भी उस कुत्ते के जैसे ही हो जाता है.

9.रेबीज तथा हाइड्रोफोबिया रोग के कारण कौन-कौन से अंग प्रभावित होते हैं और इसके क्या क्या लक्षण दिखाई देते हैं जिससे पता लगाया जा सके.
उत्तर. रेबीज या हाइड्रोफोबिया रोग के कारण हमारे शरीर के तंत्रिका तंत्र पर प्रभाव पड़ता है. तथा इसके कारण पीड़ा ज्वर, पानी से अधिक्य से भय है, मांसपेशियां तथा श्वसन तंत्र में लकवा, बेहोशी, बेचैनी जैसी बहुत सी समस्याएं इस रोग के लक्षण में देखी जा सकती है.

10.फ्लू या इंफ्लुएंजा रोग के कारण हमारे शरीर पर क्या-क्या प्रभाव देखे जा सकते हैं. और किस किस भाग पर प्रभाव देखे जाते हैं.
उत्तर.फ्लू या इंफ्लुएंजा रोग के कारण हमारे श्वसन तंत्र के ऊपर प्रभाव पड़ता है. इसके कारण ज्वर शरीर में पीड़ा, सिर दर्द, जुखाम खांसी जैसी समस्याएं होने लगती है.

11.गलसुआ रोग के कारण हमारे किस अंग के ऊपर प्रभाव पड़ता है और इसके होने से क्या क्या लक्षण दिखाई देते हैं.
उत्तर. गलसुआ रोग के कारण पैरोटिड लार ग्रंथियों पर प्रभाव पड़ता है. और इस रोग के कारण लार ग्रंथि में सूजन. अग्नाशय .अंडाशय और वृषण होने  का भय रहता है. और यही इसके मुख्य कारण या लक्षण होते हैं.

12.क्षय रोग के कारण हमारा कौन सा अंग प्रभावित होता है और इसके होने से क्या क्या लक्षण दिखाई देते हैं.
उत्तर. क्षय रोग के कारण हमारे शरीर का कोई भी अंग विशेषकर फेफड़े प्रभावित होते हैं. और इसके कारण हमारे शरीर में खांसी ज्वर, दुर्बलता, सांस फूलना, बलगम आना तथा थूक में खून आना जैसी समस्याएं होती है. और यह रोग माइक्रोबैक्टीरियम ट्यूबरक्लोसिस जीवाणु के कारण फैलता है.

13. कुष्ठ रोग के कारण हमारे शरीर का कौन सा अंग प्रभावित होता है. और इससे रोग को फैलाने वाले जीवाणु का क्या नाम है. और इसकी कौन-कौन से लक्षण होते हैं.
उत्तर. कुष्ठ रोग के कारण हमारे शरीर में  त्वचा और तंत्रिकाएं प्रभावित होती हैं. इस रोग के मुख्य लक्षण गांठों का बनना और हाथ तथा पैरों की उंगलियों के उत्तक़ का धीरे-धीरे नष्ट होना जैसी समस्याएं होती है, और इसको फैलाने वाले जीवाणु का नाम माइक्रोबैक्टीरियम लिर्पैयी है.

14.मियादी बुखार रोग के कारण कौन-कौन से अंग प्रभावित होते हैं. और इस को फैलाने वाले जीवाणु का क्या नाम है और इस रोग के मुख्य लक्षण कौन-कौन से हैं.
उत्तर.मियादी बुखार आंत का रोग है. इसके कारण ज्वर ,दुर्बलता और ज्यादा प्रकोप होने के कारण आंतों में छेद होने जैसी समस्याएं हो जाती है, यह इसका मुख्य कारण है, और यह रोग साल्मोनेला टाइफी जीवाणु द्वारा फैलता है.

15.बोटुलिज़्म या भोजन विषाक्तता रोग से कौन-कौन से अंग प्रभावित होते हैं और यह किस जीवाणु द्वारा फैलाया जाता है और इसके कौन-कौन से लक्षण है
उत्तर. बोटुलिज़्म या भोजन विषाक्तता रोग से मुख्य रूप से तंत्रिका तंत्र प्रभावित होता है. और इसके कारण उल्टी, दोहरी दृष्टि, सांस लेने में पीड़ा जैसी समस्याएं होती है.. और यह रोग क्लोस्ट्रीडियम बोटुलिनम जीवाणु के कारण फैलता है.

16.मेनिनजाइटिस रोग किस जीवाणु से फैलता है. और इसके कौन-कौन से लक्षण हैं इससे शरीर का कौन सा अंग प्रभावित होता है.
ऊतर.मेनिनजाइटिस रोग से मस्तिष्क की झिल्लियां के ऊपर या मस्तिष्क के ऊपर सबसे ज्यादा प्रभाव देखा जाता है. और इस रोग के कारण तीव्र ज्वर, बेहोशी मस्तिष्क की झिल्ली में शोथ या सूजन जैसे लक्षण दिखाई देते हैं. और यह रोग निसेरिया मेनिनजाइटिस जीवाणुओं के कारण फैलता है.

17.प्लेग रोग किसके कारण फैलता है इसकी कौन-कौन से लक्षण है और इससे कौन-कौन सा अंग प्रभावित होता है.
उत्तर.प्लेग रोग से बगले या काँखे, फेफड़े, लाल रुधिर कणिकाएं इनके ऊपर सबसे ज्यादा प्रभाव पड़ता है और इस रोग के लक्षणों में मुख्य रूप से तीव्र ज्वर, काँखों में गिल्टी का निकलना, बेहोशी जैसी समस्याएं दिखाई देती है. और यह रोग पासट्यूरेला पेस्टिस जीवाणु से फैलता है.

18.सिफिलिस रोग के कारण कौन-कौन से अंग प्रभावित होते हैं तथा इसके कौन-कौन से लक्षण होते हैं और यह किस जीवाणु के कारण फैलता है.
उत्तर. सिफिलिस रोग के कारण मुख्य रूप से जननांग, मस्तिष्क तंत्रिका तंत्र जैसे अंग प्रभावित होते हैं और इस रोग के मुख्य लक्षणों में जैसे जनन अंगों पर चकत्ते बनना, लकवा, त्वचा पर दाने बालों का झड़ना जैसी समस्याएं होती हैं और यह रोग ट्रेपोनेमा पैलिडम जीवाणु के कारण फैलता है.

19.काली खांसी रोग के कारण कौन-कौन सा अंग प्रभावित होता है कौन-कौन से लक्षण दिखाई देते हैं और यह किसके कारण फैलता है.
उत्तर. काली खांसी के कारण मुख्य रूप से स्वतंत्र प्रभावित होता है. और इसके लगातार होने पर उल्टी जैसी समस्याएं आ जाती है और यह बेसीलिस परट्यूसिस जीवाणु के कारण फैलता है.

20.डिप्थीरिया रोग के कारण कौन सा अंग प्रभावित होता है और इसके कौन-कौन से लक्षण है और यह किस जीवाणु के कारण फैलता है.
उत्तर. इस रोग़ के कारण मुख्य रूप से श्वसन नली पर प्रभाव पड़ता है. और इसके मुख्य लक्षण तीव्र श्वास लेने में पीड़ा, दम घुटना जैसी समस्याएं आती है और यह रोग सबसे ज्यादा काॅरीनिबैक्टीरियम डिप्थीरिया जीवाणुओं के कारण फैलता है.

21.हैजा रोग के कारण कौन-कौन से अंग प्रभावित होते हैं इसके क्या क्या लक्षण है और यह किस जीवाणु के कारण ज्यादा फैलता है.
ऊतर. हैजा रोग के कारण हमारे शरीर की आंत और आहार नाल के ऊपर प्रभाव पड़ता है. इस रोग के मुख्य लक्षण जैसे निर्जलीकरण, उल्टी, दस्त लगना जैसी समस्याएं हैं. और यह रोग विर्बियो कोलेरी जीवाणु के कारण फैलता है.

22. टिटनेस रोग के कारण कौन-कौन से प्रभावित होते हैं और यह किस जीवाणु से फैलता है. और इसके कौन-कौन से लक्षण होते हैं.
उतर. टिटनेस के कारण तंत्रिका तंत्र तथा मांसपेशियों पर ज्यादा प्रभाव पड़ता है.और इस रोग में शरीर में झटके लगना. जबड़ा न  खोलना, बेहोशी जैसी समस्याएं होती हैं. और यह रोग क्लोस्ट्रीडियम टिटेनी जीवाणु के कारण फैलता है.

23.निमोनिया रोग के कारण कौन-कौन से अंग प्रभावित होते हैं. और यह किस जीवाणु के कारण फैलता है. और इसके होने के कारण कौन-कौन से लक्षण दिखाई देते हैं.
उत्तर. निमोनिया रोग के कारण मुख्य रूप से फेफड़े प्रभावित होते हैं. और इस रोग के मुख्य लक्षण फेफड़ों में संक्मण. फेफड़ों में जल भरना और तीव्र ज्वर. सांस लेने पीड़ा होना जैसे लक्षण दिखाई देते हैं. और यह रोग डिप्लोकोक्स न्यूमोनी जीवाणु के कारण फैलता है.

24.मलेरिया रोग किस जोड़ों के कारण फैलता है और इसके कारण कौन-कौन से अंग प्रभावित होते हैं. और इसकी होने पर क्या क्या लक्षण दिखाई देते हैं.
उतर. मलेरिया रोग होने के कारण मुख्य रूप से तीव्र ज्वर, सिरदर्द. और कमर दर्द जैसे लक्षण दिखाई देते हैं. और यह रोग होने के कारण लाल रुधिर,प्लीहा, यकृत जैसे अंग को प्रभावित करती है.और इस रोग के जीवाणु का नाम प्लाज्मोडियम है.

25.निंद्रा रोग के कारण कौन-कौन सा अंग प्रभावित होता है इसके कौन-कौन से लक्षण है. और यह किस जीवाणु के कारण फैलता है.
उत्तर. निंद्रा रोग में मुख्य रूप से सेरिब्रोस्पाइनल द्रव तथा केंद्रीय तंत्रिका तंत्र प्रभावित होता है. इस रोग के मुख्य लक्षण तीव्र ज्वर और बेहोशी और रोगी का लंबे समय तक नींद में रहना जैसी समस्याएं होती है. और यह रोग ट्रापैनोसोमा गैम्बियन्स जीवाणु के कारण होता है.

26.काला अजार रोग के कारण कौन-कौन से अंग प्रभावित होते हैं. और इसके होने पर क्या क्या लक्षण दिखाई देते हैं. और इससे फैलाने वाले जीवाणु का क्या नाम है.
उत्तर. काला अजार रोग के कारण मुख्य रुप सिंह लोधी रोड लसीका प्लीहा अस्थिमज्जा जैसे अंग प्रभाव में आते हैं और इसके कारण जवाहर एनीमिया प्लीहा तथा यकृत में सूजन जैसे लक्षण दिखाई देते हैं और यह रोग लीशमैनिया जीवाणु के फैलता है.

27.दस्त जो एक भयानक रोग है जिसके कारण कौन सा अंग प्रभावित होता है. और इसके होने पर क्या क्या लक्षण दिखाई देते हैं और उसको फैलाने वाले जीवाणु का क्या नाम है.
उत्तर. दस्त रोग के कारण सबसे ज्यादा छोटी आप पर प्रभाव पड़ता है इसके कारण पेट में ऐंठन तथा दस्त के लक्षण दिखाई देते हैं और यह आइसोस्पोरा होमनिस जीवाणु के कारण फैलता है.

28.सुजाक पुरुषों में होने वाले तथा सहित शवेत प्रदर स्त्रियों में होने वाले रोग से कौन सा अंग प्रभावित होता है.और इसके क्या क्या लक्षण है. इसको कौन सा जीवाणु फैलाता है.
उतर. सुजाक तथा श्वेत प्रदर रोगों में मुख्य रूप से पुरुषों के मूत्र मार्ग तथा स्त्रियों की योनि प्रभावित होती है. और इस के होने पर जो लक्षण देखे जाते हैं. उनमें मूत्र त्याग में जलन व दर्द स्त्रियों में सफेद द्रव का निकलना तथा दर्द जैसी समस्याएं होती इसको फैलाने वाले वायरस का नाम ट्राइकोमोनास है.

29. घातक अतिसार या पेचिश रोग को फैलाने वाले जीवाणु का क्या नाम है. और इसे कौन सा अंग प्रभावित होता है वह इस के कौन-कौन से लक्षण होते हैं.
उत्तर. घातक अतिसार या पेचिश रोग के कारण मुख्य रूप से भारत के अगले भाग पर प्रभाव पड़ता है.और इसके कारण दस्त सिरदर्द तथा कभी-कभी पीलिया रोग जैसी समस्याएं होती हैं और इस को फैलाने वाले जीवाणु का नाम जिआरडीया लैम्बलिया है.

30.अमीबियासिस रोग के कारण होने वाले प्रभावित अंग का क्या नाम है. और इसके लक्षण क्या-क्या है और इसको फैलाने वाले परजीवी का क्या नाम है.
उत्तर.  अमीबियासिस रोग बड़ी आंत कोलन प्रभावित होती है. और इस रोग के होने से मुख्य रुप से कोलन में सूजन, दस्त के साथ आंव का आना जैसे लक्षण देखे जाते हैं. और इस रोग को फैलाने वाले परजीवी का नाम एंटअमीबा हिस्टोलिटिका है.

31.दस्त में आमातिसार रोग को फैलाने वाले जीवाणु का क्या नाम है. और इससे कौन-कौन से अंग प्रभावित होते हैं. और इसके क्या क्या लक्षण होते हैं.
उत्तर. दस्त में आमातिसार रोग में बड़ी आंत  पर प्रभाव पड़ता है. और इस रोग के मुख्य लक्षण बड़ी आंत में सूजन व दर्द बार बार दस्त आना जैसे लक्षण होते हैं. और इस रोग को फैलाने वाले जीवाणु का नाम ट्राइकोमोनास टीनैक्स है.

32.पायरिया रोग होने से कौन-कौन से अंग प्रभावित होते हैं. और इसके होने के बाद कौन-कौन से लक्षण दिखाई देते हैं और इस को फैलाने वाले जीवाणु का क्या नाम है.
उत्तर. पायरिया रोग से दांतों की जड़ों तथा मसूड़ों पर प्रभाव होता है. और इस रोग के मुख्य लक्षण मसूड़ों में सूजन, मसूड़ों में खून आना तथा मवाद का निकलना है, और इस रोग को फैलाने वाले परजीवी का नाम एंटअमीबा जिंजीवेलिस है.

तो आज हमने आपको इस पोस्ट में एक बहुत ही बढ़िया और महत्वपूर्ण जानकारी दी है यह जानकारी आपके लिए जानना बहुत ही जरूरी था. और यह आपके सामान्य ज्ञान के लिए भी बहुत ही जरूरी है तो यदि हमारी दवारा बताइ जीवाणु से होने वाले रोग ट्रिक प्रोटोजोआ से होने वाले रोग protozoa से होने वाले रोग कवक से होने वाले रोग विषाणु रोग प्रोटोजुआ से होने वाले रोग से संबंधित जानकारी आपको अच्छी लगे और पसंद आए तो शेयर करना ना भूलें और यदि आपका इसके बारे में कोई सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमसे पूछ सकते हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!