Samanya Gyan

भारत के मंदिर, स्तूप व मंदिर शैली से सबंधित महत्वपूर्ण जानकारी

भारत के मंदिर, स्तूप व मंदिर शैली से सबंधित महत्वपूर्ण जानकारी

किसी भी चीज का एग्जाम हो उसमे भारत के मंदिर, स्तूप व मंदिर शैली से संबंधित काफी प्रश्न पूछे जाते है .वैसे तो हमे स्कुल समय से ही  इतिहास में मंदिर, स्तूप व मंदिर शैली के बारे में पढ़ाया जाता है.लेकिन बहुत से विद्यार्थी उस समय ध्यान नहीं देते है .और बाद में उन्हें एग्जाम के समय दिक्कत होती है .इसलिए जो विद्यार्थी जलप्रपातो से संबंधित जानकारी ढूढ़ रहे है ,उन सभी उम्मीदवारों के लिए इस पोस्ट में भारत के मंदिर, स्तूप व मंदिर शैली से सबंधित महत्वपूर्ण जानकारी एक लाइन के प्रश्न उत्तरों में दी गई है .यह जानकारी आपके सामान्य ज्ञान के लिए भी बहुत आवश्यक है .इसलिए आप इस जानकारी को को ध्यान से पढिए .अगर यह आपको पसंद लगे तो दूसरो शेयर जरुर करे.

1. ‘होयसलेश्वर’ का प्रसिद्ध मन्दिर हलेबिड में स्थित है
2. ऋषभदेव को जैन तीर्थंकर को उदयपुर जिले के आदिवासी काला बाबा के नाम से पूजते हैं
3. कांची व महाबलीपुरम के मंदिर द्रविड़ शैली में निर्मित हैं
4. ऐसी मंदिर शैली जिसका तल गोल, योजना द्रविड़ शैली की व रूप नागर यौली का रहता है, वेसर शैली कहलाती है
5. कोणार्क के सूर्य मन्दिर का निर्माता राजराज प्रथम है
6. भिक्षुओं के निवास स्थान विहार कहलाते हैं
7. प्रसिद्ध ‘तिरुपाल मन्दिर’ हम्पी अवस्थित है
8. श्रवणबेलगोला में गोमतेश्वर की मूर्ति का निर्माण चामुण्डराय करवाया था
9. बोधगया स्थित ‘महाबोधि मंदिर’ का निर्माण सम्राट अशोक ने करवाया था
10. ऐसी स्त्री-मूर्ति जो वृक्ष को संभाले हुए अथवा उनका सहारा लिए खड़ी हो, वृक्षिका कहलाती है

11. गालव ऋषि के आश्रम के रूप में राजस्थान का गलता जी जयपुर तीर्थ स्थल जाना जाता है
12. गांधीनगर नगर में ‘अक्षरधाम मंदिर’ स्थित है
13. बली देने या भोग चढ़ाने के लिए बनाए गए चबूतरे के पीछे का या ऊपर का चित्र अथवा आलंकारिक नक्काशी कार्य वेदी चित्र कहलाता है
14. ‘सप्तरथ मंदिर’ महाबलीपुरम अवस्थित है
15. दिल्ली स्थित जामा मस्जिद का निर्माण शाहजहां ने करवाया था
16. चित्तौड़ के दुर्ग में ‘विजय स्तम्भ’ का निर्माण राणा कुम्भा ने करवाया था
17. तेजाजी ने नागवंशीय जाट लोकदेवता ने मेर लुटेरों से गाय छुड़ाने के लिए अपने प्राणों की आहुति दी थी
18. रुणीचा गांव में बाबा रामदेवजी लोक देवता का मंदिर है
19. दिल्ली स्थित लोटस टैंपल बहाई धर्म से सम्बन्धित है
20. सालासर बालाजी का धाम चुरू जिले में है

21. भारत में ब्रह्मा का एकमात्र मन्दिर पुष्कर स्थित है
22. उस पेटी को हर्मिका नाम से पुकारा जाता है जिसमें भगवान बुद्ध की अस्थियां रखी गई हैं
23. राणी सती माता-झुंझुनूं का वास्तविक नाम नारायणी था
24. अमृतसर के स्वर्ण मन्दिर का निर्माण गुरु अर्जुन देव ने करवाया था
25. देवगढ़ का दशावतार मंदिर व खजूराहो का कन्दरिया महादेव मंदिर नागर शैली का उदाहरण है
26. माउण्ट आबू का दिलवाड़ा मंदिर जैन तीर्थंकर समर्पित है
27. राजस्थान में मेवानगर पाश्र्वनाथ जैन मंदिर के लिए प्रसिध्द है
28. कामदेव की छोटी मूर्ति को अमोरिनो कहते हैं
29. पिछवाई कलाकृतियों में बने चित्र कृष्ण के जीवन से उद्धृत किय गए हैं-
30. भारत में पहले मानव प्रतिमा को पूजा गया वह शिव प्रतिमा थी

31. प्रसिद्ध ‘तिरुपाल मंदिर’ श्रीकालहस्ती अवस्थित है
32. किस नगर के निकट ‘पालिताणा मंदिर’ भावनगर में स्थित है
33. मैसूर के मंदिरों का निमार्ण होयसल राजाओं ने किया था
34. स्तूप के चारो ओर से घेरे जो प्रस्तर की बाड़ बनाई जाती है, उसे वेदिका कहते हैं
35. कोणार्क सूर्य मन्दिर को ‘ब्लैक पैगोडा’ कहा जाता है
36. सुप्रसिद्ध ‘कमल मन्दिर’, जो बहाई धर्म के अनुयायियों ने बनवाया है, दिल्ली शहर में स्थित है
37. भुवनेश्वर तथा पुरी के मन्दिर नागर शैली में निर्मित हैं
38. मध्य प्रदेश में प्रसिद्ध ‘साँची का स्तूप’ स्थित है
39. ‘गेटवे ऑफ़ इंडिया’ मुम्बई अवस्थित है
40. ‘चूहों के मन्दिर’ के नाम से विख्यात मन्दिर करणीमाता मन्दिर है-
41. मैसूर के मंदिर वेसर शैली से बने हैं
42. ‘मीनाक्षी मन्दिर’ मदुरा में अवस्थित है

इस पोस्ट में आपको मंदिर के बारे में जानकारी मन्दिर भारत के प्राचीन मंदिर खजुराहो के चित्र मंदिर संबंधित प्रश्न चतुर्भुज मंदिर खजुराहो मध्य प्रदेश खजुराहो स्मारक समूह खजुराहो विश्वनाथ मंदिर खजुराहो मध्य प्रदेश मंदिर संबंधित प्रश्न कला के प्रश्न भारतीय कला एवं संस्कृति प्रश्न उत्तर कला शिक्षा के प्रश्न भारतीय कला प्रश्नोत्तरी शैली ज्ञान के सवालों सामान्य ज्ञान कला भारत के राज्यों की लोक कला शैली  से संबंधित काफी महत्वपूर्ण जानकारी दी गई है .इन्हें आप अच्छे से पढिए और अगर आपको यह जानकारी फायदेमंद लगे तो अपने दूसरों के साथ शेयर करें और अगर इसके बारे में आपका कोई भी सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट करें .

Join Our Whatsapp Group For Latest Update :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *