भारत के प्रमुख राष्‍ट्रीय चिन्हों की जानकारी

भारत के प्रमुख राष्‍ट्रीय चिन्हों की जानकारी

आज हम आपको भारत के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी देने वाले हैं इसमें हम आपको भारत के राष्ट्रीय चिन्हों के बारे में जानकारी देंगे यह राष्ट्रीय चिन्ह भारतीय की पहचान है वह इन चिन्हों को भारत के राष्ट्रीय चिन्हों को का गौरव प्रतीक माना जाता है तो नीचे कुछ भारतीय राष्ट्रीय चिन्हों से संबंधित जानकारी दी गई है और यह आपके सामान्य ज्ञान के लिए भी बहुत ही महत्वपूर्ण है यह जानकारी अक्सर आप के एग्जाम में भी पूछी जाती है इसलिए आप इन को अच्छी तरह से याद करें और अगर आपको यह जानकारी पसंद आए तो शेयर करना ना भूले

1. राष्‍ट्रीय ध्‍वज
2.राष्‍ट्रीय पक्षी
3. राष्‍ट्र–गान
4. राष्‍ट्रीय नदी
5.राष्‍ट्रीय पशु
6.राष्‍ट्रीय गीत
7.राष्‍ट्रीय फल
8.राष्‍ट्रीय खेल
9. राष्‍ट्रीय पुष्‍प
10. राष्‍ट्रीय पेड़
11.राष्‍ट्रीय जलीय जीव
12.राजकीय प्रतीक
13.राष्‍ट्रीय पंचांग
14.मुद्रा चिन्ह
15.राष्‍ट्रीय ध्‍वज

1. राष्‍ट्रीय ध्‍वज

भारत के राष्ट्रीय ध्वज को तिरंगे के नाम से भी पुकारा जाता है इसके अंदर तीन रंग है सबसे ऊपर केसरिया रंग उसके बाद सफेद रंग बीच में और सबसे नीचे गहरा हरा रंग बीच में सफेद रंग की पट्टी के ऊपर एक चक्कर बना हुआ है उससे पर के अंदर 24 तीलियां है राष्ट्रीय ध्वज को सबसे पहले पिंगली वेंकैया ने डिजाइन किया था

तिरंगे की चौड़ाई और लंबाई अनुपात 3: 2 हैसबसे ऊपर केसरिया रंग है जो की वीरता और साहस को दर्शाता है बीच में सफेद रंग है जो कि शांति और सद्भावना को दर्शाता है सबसे नीचे गहरा हरा रंग है जो कि विकास और प्रगति और हरियाली को दर्शाता है बीच में जो सफेद पट्टी है उसके व्यास के बराबर इसके अंदर चक्कर बना हुआ है.

2. राष्‍ट्रीय पक्षी

भारत का राष्ट्रीय पक्षी मोर है मोर एक बहुत ही चतुर और सुंदर पक्षी है जो की बहुत ही शर्मिंदा होता है जिसके सिर पर कलगी होती है और इसके बड़े-बड़े पंख होते हैं जो की रंगीन होते हैंउसके पंखों का आकार हंस के जैसा होता है. मोर बहुत ही सुंदर पक्षी होता है जो बारिश के मौसम में बहुत नाश्ता है और इसकी आवाज बहुत दूर तक सुनाई देती है वैसे तो यह बहुत ही डरने वाला पक्षी होता है अगर आप इसके नजदीक जाना चाहोगे तो यह बहुत ही तेजी से भाग जाएगा मोर को भारत का राष्ट्रीय पक्षी जनवरी 1936 में घोषित किया गया था.मोर भारत का ही नहीं बल्कि श्रीलंका कभी राष्ट्रीय पक्षी है.

3. राष्‍ट्रीय पुष्‍प

भारत का राष्ट्रीय फूल कमल है यह वनस्पति जगत का बहुत ही सुंदर फूल होता है यह पानी की उपस्थिति में उगता है. यह लगभग दुनिया के सभी हिस्सों में पाया जाता है इस पौधे के नीचे कीचड़ होता है क्योंकि इसके तने बहुत ही बड़े और खोखले होते हैं इसकी बच्ची प्रजातियां पाई जाती है इसके अंदर बहुत ही सुंदर खुशबू आती है

4. राष्‍ट्रीय पेड़

भारत का राष्ट्रीय पेड़ बरगद है बरगद विशाल पेड़ होते हैं और उनकी आयोग विभूति बड़ी बड़ी होती है बरगद के पेड़ की आयु 200 या 300 साल तक भी होती हैं बरगद का दूसरा नाम पीपल भी है बरगद के पेड़ की होती लंबी-लंबी नसीब होती है जो की बहुत ही मजबूत होती हैऔर गांव में तो बरगद के पेड़ के नीचे बैठ कर बातें की जाती है बरगद के पेड़ को बहुत ही शुभ माना जाता है इससे कई प्रकार की दवाई भी बनती है.

5. राष्‍ट्र–गान

सभी देशों का अपना अपना एक राष्ट्रगान होता है इसी तरह भारत का राष्ट्रीय गान जन गण मन हैहै इसको रविंद्र नाथ टैगोर ने लिखा था. पहले इसको बंगाली भाषा में लिखा गया था और उसके बाद हिंदी में इसका अनुवाद किया गया इसको गाने का समय  52 सेकंड है. सबसे पहले इसको भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस अधिवेशन में 27 दिसंबर 1911 को गाया गया था और पहली बार इसको पत्रिका में 1912 में छापा गया था. उस पत्रिका का नाम भारत विधाता था भारत ने राष्ट्रीय गान को  अपने सविधान में 24 जनवरी 1950 को अपनाया.

स्‍वर्गीय कवि रविन्‍द्र नाथ टैगोर द्वारा “जन गण मन” के नाम से प्रख्‍यात शब्‍दों और संगीत की रचना भारत का राष्‍ट्र गान है। इसे इस प्रकार पढ़ा जाए:

जन-गण-मन अधिनायक, जय हे
भारत-भाग्‍य-विधाता,
पंजाब-सिंधु गुजरात-मराठा,
द्रविड़-उत्‍कल बंग,
विन्‍ध्‍य-हिमाचल-यमुना गंगा,
उच्‍छल-जलधि-तरंग,
तव शुभ नामे जागे,
तव शुभ आशिष मांगे,
गाहे तव जय गाथा,
जन-गण-मंगल दायक जय हे
भारत-भाग्‍य-विधाता
जय हे, जय हे, जय हे
जय जय जय जय हे।

उपरोक्‍त राष्‍ट्र गान का पूर्ण संस्‍करण है और इसकी कुल अवधि लगभग 52 सेकंड है।

6. राष्‍ट्रीय नदी

भारत में बहुत सारी नदियां हैं नदियों में से एक राष्ट्रीय नदी गंगा भी है गंगा नदी बहुत ही पवित्र नदी है यह भारत की सबसे लंबी नदी है . इसकी लंबाई 2510 किलोमीटर है गंगा नदी गंगोत्री से निकलकर पूरे भारत को चीरती हुई बांग्लादेश के अंदर से बंगाल की खाड़ी में जाकर समाप्त हो जाती है गंगा नदी पर कई शहर बसे हैं जैसे वाराणसी हरिद्वार आदि 29 शहरों और 48 कस्बों से होकर गुजरती है गंगा नदी को दिसंबर 2008 में राष्ट्रीय नदी घोषित किया गया.इसमें सबसे मशहूर डॉल्फिन भी पाई जाती है और इस नदी में अनेक मछलियों और सांपो की प्रजातिया पाई जाती है. ताप्ती चंबल गंडक कोसी राम गंगा जैसी इसकी बहुत सी सहायक नदियां भी है इस पर फ़रक्का बांध, टिहरी बांध, तथा भीमगोडा बांध जैसे कई बांध भी बनाए गए हैं

7. राष्‍ट्रीय जलीय जीव

भारत का राष्ट्रीय जलीय जीव एकमात्र गंगा नदी में पाई जाने वाली डॉलफिन है. यह मीठे पानी में पाई जाती है क्योंकि यह सिर्फ मीठे पानी में ही जीवित रह सकती है डॉलफिन  प्रमुख दो प्रजातियां हैं जो कि भारत नेपाल और पाकिस्तान बांग्लादेश में पाई जाती है.डॉल्फिन एक नेत्रहीन जलीय जीव होता है और अब इनकी प्रजाति विलुप्त होने की कगार पर आ गई है भारत में इनकी संख्या अब बहुत ही कम रह गई है डॉलफिन  ‘सोंस’ को किस नाम से भी जाना जाता है क्योंकि यह सांस लेते समय आवाज निकालती है गंगा नदी के संरक्षण अभियान की बैठक में भारत के पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह ने 4 अक्टूबर 2009 को इनकी घटती हुई जनसंख्या के कारण डॉलफिन को राष्ट्रीय जलीय जीव घोषित किया गया. डॉल्फिन की घटती हुई जनसंख्या का कारण उनका शिकार है उनको सारे के रूप में बेचा जाने लगा और इनका सबसे ज्यादा तेल निकालने के लिए शिकार किया जाने लगा. और नदियों पर बांध बनने के कारण भी इनकी प्रजातियां कम हुई है.

8. राष्‍ट्रीय प्रतीक

भारत का राष्ट्रीय प्रतीक सोमनाथ में स्थित अशोक के सिंह स्तंभ है. राष्ट्रीय प्रतीक में चार सिंह आपस में पीठ लगाए हुए बैठे हैं उसके नीचे एक अशोक चक्र बनाया गया है वह शक्कर के अंदर 24 तीलियां हैं जो कि 24 घंटे का एहसास कराता है. इस राष्ट्रीय प्रतीक को 26 जनवरी 1950 में भारत का राष्ट्रीय प्रतीक घोषित किया गया. इसमें नीचे दाएं तरफ एक सांड और बाए तरफ एक घोड़ा है दाई और बाई तरफ किसी अन्य चक्करों के किनारे हैं. वैसे तो इसमें चार सिंह है लेकिन चौथा सिंह दिखाई नहीं देता. सोमनाथ के संग्रहालय में इस प्रतीक को सुरक्षित रखा गया है.इसके नीचे सत्यमेव जयते लिखा हुआ है जिसका मतलब होता है की सत्य की ही विजय होती है.

 

9. राष्‍ट्रीय पंचांग

भारत के राष्ट्रीय पंचांग को चैत्र इसका  माह होता है और इसको ग्रेगोरियन कैलेंडर के साथ 22 मार्च 1957 को पूर्ण रूप से 365 दिन निम्नलिखित सरकारी परियोजनाओं के साथ अपनाया गया था

भारत का राजपत्र,
आकाशवाणी द्वारा समाचार प्रसारण,
भारत सरकार द्वारा जारी कैलेंडर और
लोक सदस्‍यों को संबोधित सरकारी सूचनाएं
राष्‍ट्रीय कैलेंडर ग्रेगोरियम कैलेंडर की तिथियों से स्‍थायी रूप से मिलती-जुलती है। सामान्‍यत: 1 चैत्र 22 मार्च को होता है और लीप वर्ष में 21 मार्च को।

10. राष्‍ट्रीय पशु

भारत का राष्ट्रीय पशु बाघ है बाघ जंगल में रहने वाला मांसाहारी पशु है. बाघ के शरीर पर बाघ के शरीर पर लाल और पीले बाल होते हैं और उन बालों के बीच काले रंग के बालों की एक पट्टी भी होती है सबसे ज्यादा बाघ भारत नेपाल इंडोनेशिया अफगानिस्तान में पाए जाते हैं यह एशिया के सिर्फ तिब्बत और श्रीलंका दो देशों में नहीं पाए जाते. अंडमान निकोबार द्वीपसमूह पर भी बाघ की कोई प्रजाति नहीं पाई जाती है. बाघ एक बहुत ही शक्तिशाली पशु होता है और इसमें वजन  भी बहुत ज्यादा होता है और फिर भी वह बहुत ही स्पीड से दौड़ सकता है जिसके कारण वह एक बारी में ही शिकार को मार देता है.लेकिन अब बाकी जनसंख्या में कमी हुई है

11. राष्‍ट्रीय गीत

भारत का राष्ट्रीय गीत वंदे मातरम है इसको बंकिमचंद्र चटर्जी ने संस्कृत में लिखा था. और यह गीत भारत की स्वतंत्रता के दौरान लोगों में उत्साह पैदा करता था.वंदे मातरम को 1896 पहली बार गाया गया था और इस को 24 जनवरी 1950 को भारत के राष्ट्रीय गीत के रूप में मान्यता दी गई और इस गीत का सथान भारत के राष्ट्रीय गान जन गण मन के बराबर माना जाता है.

वंदे मातरम्, वंदे मातरम्!
सुजलाम्, सुफलाम्, मलयज शीतलाम्,
शस्यश्यामलाम्, मातरम्!
वंदे मातरम्!
शुभ्रज्योत्सनाम् पुलकितयामिनीम्,
फुल्लकुसुमित द्रुमदल शोभिनीम्,
सुहासिनीम् सुमधुर भाषिणीम्,
सुखदाम् वरदाम्, मातरम्!
वंदे मातरम्, वंदे मातरम्॥

12. राष्‍ट्रीय फल

भारत का राष्ट्रीय फल आम है आम एक बहुत ही बढ़िया फल है यह कच्चे से लेकर पकने के बाद तक खाया जा सकता है भारत में आम की लगभग 100 से ऊपर प्रजातियां पाई जाती है. यह सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि पाकिस्तान और फिलीपींस में भी राष्ट्रीय फल है और इसके साथ यह बांग्लादेश में आम के पेड़ को राष्ट्रीय पेड़ घोषित किया गया है. सबसे पहले आम की प्रजाति भारतीय उपमहाद्वीप में ही पाई गई थी. बाद में दुनिया के अन्य देशों में इसकी प्रजाति फैल गई. इस फल के रस में विटामिन ए सी तथा डी होता है. आम उष्णकटिबंधीय इलाके का बहुत ही प्रमुख फल है.

13. राष्‍ट्रीय खेल

भारत का राष्ट्रीय खेल हॉकी है भारत में क्रिकेट को ज्यादा पसंद किया जाता है उसके बावजूद भी हॉकी को राष्ट्रीय खेल के रूप में घोषित किया गया ओके हॉकी के अंदर 11 खिलाड़ी होते हैं. मेजर ध्यानचंद को हॉकी का जादूगर कहा जाता है क्योंकि वह बहुत ही महान खिलाडी है और मेजर ध्यानचंद के जन्मदिन 29 अगस्त को राष्ट्रीय खेल दिवस के रुप में मनाया जाता है 1928 से लेकर 1952 के बीच में भारत ने हॉकी में लगातार छह स्वर्ण पदक जीते और भारत ने ओलंपिक में 24 मैच खेले जिनमें से 24 मैच जीतकर उन्होंने उसमें 178 गोल बनाए जिसमें से एक मैच में 24-1 के बड़े अंतराल से भारत ने जीत दर्ज की उस मैच में रूप सिंह ने 11 गोल किए थे. 26 मई 1928 को भारत पहली बार ओलंपिक खेलों में शामिल किया गया और उसने जीत प्राप्त की. और इसके साथ भारत ने 1975 में वर्ल्ड कप जीता.भारत के नाम इस तरह के कई रिकॉर्ड है. भारत के राष्ट्रपति खेल देश के अवसर पर खेल में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले खिलाड़ियों को खेल रतन द्रोणाचार्य और मेजर ध्यानचंद अवार्ड से सम्मानित करते हैं.

14. मुद्रा चिन्ह

राष्ट्रीय मुद्रा रुपया है किसी भी देश की राष्ट्रीय मुद्रा इस देश की राष्ट्रीयता को दर्शाती है. भारतीय राष्ट्रीय मुद्रा रुपया दुनिया पांचवी ऐसी मुद्रा है जो राष्ट्रीय चिन्ह के रूप में पहचानी जाती है अमेरिका में डॉलर ब्रिटिश में पाउंड यूरोप में यूरो जापान में यह राष्ट्रीय मुद्राएं है. प्रणव मुखर्जी ने कहा था कि भारतीय राष्ट्रीय मुद्रा रुपया भारत की संस्कृति को दर्शाता है. इसलिए भारतीय राष्ट्रीय मुद्रा रुपया को  15 जुलाई 2010 को राष्ट्रीय मुद्रा पूर्ण रूप से घोषित कर दिया गया.राष्ट्रीय मुद्रा रुपया को सबसे पहले मुंबई के पोस्ट ग्रेजुएट श्री डी उदय कुमार ने डिजाइन किया था बाद में वित्त मंत्रालय द्वारा एक प्रतियोगिता रखी गई इस प्रतियोगिता में हजारों में से एक सिक्के को चुना गया.

आज हमने आपको इस पोस्ट में भारत के प्रमुख राष्ट्रीय चिन्हों,देशों के राष्ट्रीय चिन्ह भारत का राष्ट्रीय फल भारत का राष्ट्रीय वाक्य राजकीय प्रतीक राष्ट्रीय चिन्ह पर निबंध भारत का राष्ट्रीय फूल, के बारे में जानकारी दी है यह जानकारी आपके लिए बहुत ही लाभदायक हो सकती है यदि यह जानकारी आपको पसंद आए तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करना और अगर आपका इसके बारे में कोई सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट करके हमें जरूर बताएं

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!