UPTET 2018 सिलेबस & एग्जाम पैटर्न इन हिंदी

UPTET Exam Pattern & Syllabus 2018 In Hindi

Uttar Pradesh Basic Education Board  ने UP Teacher Eligibility Test (UPTET)  भर्ती के लिए अधिसूचना जारी की है .इसलिए जो उम्मीदवार UP TET की नौकरी करना चाहते उसके लिए यह एक सुनेहरा मौका है .यहाँ हमने UP TET Exam Pattern Syllabus के बारे में पूरी डिटेल में बताया है .बड़ी संख्या में उम्मीदवार UP TET Exam Pattern Syllabus की खोज कर रहे होंगे .क्योंकि इससे उनको यह पता चल जाता है की परीक्षा में कितने प्रश्न पूछे जाएँगे ,कितने विषय होंगे ,कुल प्रश्नों की संख्या, अधिकतम अंक, नेगेटिव मार्किंग किस प्रकार से होगी आदि इसलिए हम आपको इस पोस्ट में MP TET Exam Pattern Syllabus 2018 के बारे बताएँगे .

अगर आप UPTET भर्ती परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं, तो आपको UP Teacher Elibility Test सिलेबस को बड़े ध्यान से जांचना होगा.UP Teacher Elibility Test की भर्ती के लिए Vacancies जारी की है . इसलिए जो योग्य उम्मीदवार इसके लिए आवेदन कर रहे है उसे आवेदन करने से पहले इसकी अधिसूचना को पढना चाहिए और परीक्षा से पहले इसके Exam Pattern और Syllabus को जरुर देखना चाहिए .क्योंकि इससे उम्मीदवार की परीक्षा के लिए अच्छे तैयारी हो जाती .इसलिए जो उम्मीदवार इस परीक्षा के योग्य है या जो उम्मीदवार इस परीक्षा में उपस्थित होना चाहते हैं .उसे नीचे परीक्षा के Exam Pattern और Syllabus के बारे में पूरी डिटेल में बताया गया है.यह आपकी परीक्षा में मदद करेगा .

UPTET ऑनलाइन मॉक टेस्ट इन हिंदी
UPTET Previous Year Question Papers In Hindi
UPTET क्वेश्चन पेपर इन हिंदी

यूपीटीईटी सिलेबस और परीक्षा पैटर्न (पेपर 1 और 2) डाउनलोड करें

UPTET Syllabus 2018 Uttar Pradesh TET Paper 1 & Paper 2 Exam Pattern in Hindi – उत्तर प्रदेश मूल शिक्षा बोर्ड ने प्राइमरी टीचर्स के पद को भरने के लिए यूपीटीईटी 2018 की घोषणा की है।  हर साल उत्तर प्रदेश मूल शिक्षा बोर्ड ने उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपीटीईटी) द्वारा प्राथमिक शिक्षक की भर्ती की। आवेदक यहां से जांच सकते हैं यूपीटीईटी सिलेबस और परीक्षा पैटर्न (पेपर 1 और 2) क्या होगा .यहां से डाउनलोड कर सकते हैं

UPTET  Exam Pattern 2018

किसी भी परीक्षा को पास करने के लिए उस परीक्षा का पैटर्न का हमें पता होना बहुत जरूरी है . जिससे आपको एग्जाम की तैयारी करने में मदद मिलेगी .आज हम आपको यहाँ UP TET Exam Pattern 2018 के बारे में पूरी डिटेल में बताएँगे . Uttar Pradesh ने ऑनलाइन मोड में TET परीक्षा आयोजित की है.इसलिए  तैयारी करने वाले उम्मीदवारों को नए परीक्षा पैटर्न के बारे में पता होना चाहिए. नीचे उम्मीदवार को तालिका में MP TET Exam Pattern के बारे में पूरी डिटेल में बतया गया है .

UP TET Exam pattern Paper 1(For classes I to V) 

  • यूपी टीटी पेपर 1 परीक्षा 150 अंक के लिए होगी
  • यह उद्देश्य प्रकार की परीक्षा है
  • 150 प्रश्न हैं
  • परीक्षा की अवधि 2½ घंटे का होगा
विषय

प्रश्‍नों की संख्‍या (अंक)

कुल समय

बाल विकास एवं अध्‍यापन 30 प्रश्न (30 अंक)

150 Minutes

गणित 30 प्रश्न (30 अंक)
भाषा – 1 (हिन्‍दी) 30 प्रश्न (30 अंक)
भाषा – 2 (अंग्रेज़ी, उर्दू, संस्कृत में से कोई एक) 30 प्रश्न (30 अंक)
पर्यावरण अध्ययन 30 प्रश्न (30 अंक)

कुल

150 प्रश्न (150 अंक)

UP TET Exam pattern Paper 2 (For classes V to VIII)

विषय प्रश्‍नों की संख्‍या (अंक)

कुल समय

बाल विकास एवं अध्‍यापन

30 प्रश्न (30 अंक)

150 Minutes

भाषा – 1

30 प्रश्न (30 अंक)

भाषा – 2

30 प्रश्न (30 अंक)

विज्ञान एवं गणितया

सामाजिक विज्ञान

60 प्रश्न (60 अंक)

कुल

150 प्रश्न (150 अंक)

UPTET Syllabus 2018 in Hindi (यूपीटीईटी सिलेबस इन हिंदी)

UP TET 2018  एग्जाम की तैयारी करने से पहले आपको एग्जाम सिलेबस के बारे में जान लेना चाहिए ताकि आपकी तैयारी अच्छे से हो और थोड़े टाइम में आप एग्जाम के लिए तैयार हो जाएँ. हम यंहा पर UP TET 2018 के परीक्षा एग्जाम के बारे में आपको जानकारी देंगे. जो आपकी Uttar Pradesh  High School TET 2018 एग्जाम में हेल्प करेगा .इससे उम्मीदवार की तैयारी अच्छे से हो जाती है.उम्मीवार को सलाह दी जाती है एग्जाम से पहले उम्मीदवार को इसका सिलेबस देखना चाहिए .क्योंकि इससे उम्मीदवार को एग्जाम के अन्दर क्या क्या टॉपिक आएंगे और आप उनकी किस तरह तैयारी कर सकते है .इसलिए हमने यहाँ आपको एग्जाम के सिलेबस की पूरी डिटेल नीचे बताई गई है .इसलिए नीचे एक बार नजर जरुर डाले .

UPTET 2018 Syllabus for Paper I

I. बाल विकास और शिक्षण विधियां [30 प्रश्न]

(क) बाल विकास (कक्षा 1 से 5, 6 से 11 आयु समूह के लिए प्रासंगिक) [15 प्रश्न]
• विकास की अवधारणा तथा अधिगम के साथ उसका सम्बन्ध
• बालकों के विकास के सिद्धांत
• आनुवांशिकता और पर्यावरण का प्रभाव
• सामाजिकीकरण प्रक्रियाएं: सामाजिक विश्व और बालक (शिक्षक, अभिभावक और मित्रगण)
• पाइगेट, कोलबर्ग और वायगोट्स्की: निर्माण और विवेचित संदर्श
• बाल-केन्द्रित और प्रगामी शिक्षा की अवधारणाएं
• बौद्धिकता के निर्माण का विवेचित संदर्श
• बहु-आयामी बौद्धिकता
• भाषा और चिंतन समाज निर्माण के रूप में लिंग: लिंग भूमिकाएं. लिंग-पूर्वाग्रह और शैक्षणिक व्यवहार
• शिक्षार्थियों के मध्य वैयक्तिक विभेद, भाषा, जाति, लिंग, समुदाय, धर्म आदि की विविधता पर आधारित विभेदों को समझाना
• अधिगम के लिए मूल्यांकन और अधिगम का मूल्यांकन के बीच अंतर, विद्यालय आधारित मूल्यांकन,
• सतत एवं व्यापक मूल्यांकन: संदर्श और व्यवहार
• शिक्षार्थियों की तैयारी के स्तर के मूल्यांकन के लिए; कक्षा में शिक्षण और विवेचित चिंतन के लिए तथा शिक्षार्थी की उपलब्धि के लिए उपयुक्त प्रश्न तैयार करना।

(ख) समावेशी शिक्षा की अवधारणा तथा विशेष आवश्यकता वाले बालकों को समझना 5 प्रश्न
• गैर-लाभप्राप्त और अवसर-वंचित शिक्षार्थियों सहित विभिन्न पृश्ठभूमियों से आए शिक्षणार्थियों की आवश्यकताओं को समझना।
• अधिगम संबंधी समस्याएं, कठिनाई वाले बालकों की आवश्यकताओं को समझना।
• मेधावी, सृजनशील, विशिष्ट प्रतिभावान शिक्षणार्थियों की आवश्यकताओं को समझना।।

(ग) अधिगम और अध्यापन [10 प्रश्न]

• बालक किस प्रकार सोचते और सीखते हैं, बालक विद्यालय प्रदर्शन में सफलता प्राप्त करने में कैसे और क्यों असफल होते हैं।
• अधिगम और अध्यापन की बुनियादी प्रक्रियाएं, बालकों की अधिगम कार्यनीतियां सामाजिक क्रियाकलाप के रूप में अधिगमः अधिगम के सामाजिक संदर्भ ।
• एक समस्या समाधानकर्ता और एक वैज्ञानिक अन्वेषक के रूप में बालक।
• बालकों में अधिगम की वैकल्पिक संकल्पना, अधिगम प्रक्रिया में महत्वपूर्ण चरणों के रूप में बालक की त्रुटियों को समझना। बोध और संवेदनाएं प्रेरणा और अधिगम
• अधिगम में योगदान देने वाले कारक – निजी एवं पर्यावरणीय।।

॥. भाषा I [30 प्रश्न]

(क) भाषा बोधगम्यता [15 प्रश्न]

अनदेखे अनुच्छेदों को पढ़ना – दो अनुच्छेद एक गद्य अथवा नाटक और एक कविता जिसमें बोधगम्यता, निष्कर्ष, व्याकरण और मौखिक योग्यता से संबंधित प्रश्न होंगे (गद्य अनुच्छेद साहित्यिक, वैज्ञानिक, वर्णनात्मक अथवा तर्कमूलक हो सकता है)

(ख) भाषा विकास का अध्यापन [15 प्रश्न]

• अधिगम और अर्जन भाषा अध्यापन के सिद्धांत

• सुनने और बोलने की भूमिकाः भाषा का कार्य तथा बालक इसे किस प्रकार एक उपकरण के रूप में प्रयोग करते हैं। मौखिक और लिखित रूप में विचारों के संप्रेषण के लिए किसी भाषा के अधिगम में व्याकरण की। भूमिका पर निर्णायक संदर्श । एक भिन्न कक्षा में भाषा पढ़ाने की चुनौतियां; भाषा की कठिनाईयां, त्रुटियां और विकार
• भाषा कौशल
• भाषा बोधगम्यता और प्रवीणता का मूल्यांकन करना: बोलना, सुनना, पढ़ना और लिखना
• अध्यापन – अधिगम सामग्रियां: पाठ्यपुस्तक, मल्टी मीडिया सामग्री, कक्षा का बहुभाषायी संसाधन
• उपचारात्मक अध्यापन

III. भाषा – ॥ [30 प्रश्न]

(क) बोधगम्यता [15 प्रश्न]

दो अनदेखे गद्य अनुच्छेद (तर्कमूलक अथवा साहित्यिक अथवा वर्णनात्मक अथवा वैज्ञानिक) जिनमें बोधगम्यता, निष्कर्ष, व्याकरण और मौखिक योग्यता से संबंधित प्रश्न होंगे।

(ख) भाषा विकास का अध्यापन [5 प्रश्न]
• अधिगम और अर्जन भाषा अध्यापन के सिद्धांत
• सुनने और बोलने की भूमिका; भाषा का कार्य तथा बालक इसे किस प्रकार एक उपकरण के रूप में प्रयोग करते हैं।
• मौखिक और लिखित रूप में विचारों के संप्रेषण के लिए किसी भाषा के अधिगम में व्याकरण की भूमिका पर निर्णायक संदर्श
• एक भिन्न कक्षा में भाषा पढ़ाने की चुनौतियां: भाषा की कठिनाइयां, त्रुटियां और विकार भाषा कौशल भाषा बोधगम्यता और प्रवीणता का मूल्यांकन करना: बोलना, सुनना, पढ़ना और लिखना
• अध्यापन अधिगम सामग्री पाठ्यपुस्तक, मल्टीमीडिया सामग्री, कक्षा का बहुभाषायी संसाधन
• उपचारात्मक अध्यापन

IV. गणित

(क) विषय-वस्तु

• ज्यामिति
• आकार और स्थानिक समझ
• हमारे चारों ओर विद्यमान ठोस पदार्थ
• संख्याएं
• जोड़ना और घटाना
• गुणा करना
• विभाजन
• मापन
• भार
• समय परिमाण
• आंकड़ा प्रबंधन
• पैटर्न
• राशि

(ख) अध्यापन संबंधी मुद्दे [15 प्रश्न]

• गणितीय/तार्किक चिंतन की प्रकृति, बालक के चिंतन एवं तर्कशक्ति पैटर्नी तथा अर्थ निकालने और अधिगम की कार्यनीतियों को समझना
• पाठ्यचर्या में गणित का स्थान
• गणित की भाषा
• सामुदायिक गणित
• औपचारिक एवं अनौपचारिक पद्धतियों के माध्यम से मूल्यांकन
• शिक्षण की समस्याएं
• त्रुटि विश्लेषण तथा अधिगम एवं अध्यापन के प्रासंगिक पहलू
• नैदानिक एवं उपचारात्मक शिक्षण

V. पर्यावरणीय अध्ययन

(क) विषय-वस्तु [15 प्रश्न]

1. परिवार और मित्र
1.1 संबंध
1.2 कार्य और खेल
1.3 पशु
1.4 पौधे
2. भोजन
3. आश्रय
4. पानी
5. भ्रमण
6. वे चीजें जो हम बनाते और करते हैं

(ख) अध्यापन संबंधी मुद्दे [15 प्रश्न]

• पर्यावरणीय अध्ययन की अवधारणा और व्याप्ति
• पर्यावरणीय अध्ययन का महत्व, एकीकृत पर्यावरणीय अध्ययन
• पर्यावरणीय अध्ययन एवं पर्यावरणीय शिक्षा
• अधिगम सिद्धांत
• विज्ञान और सामाजिक विज्ञान की व्याप्ति और संबंध
• अवधारणा प्रस्तुत करने के दृष्टिकोण
• क्रियाकलाप
• प्रयोग/व्यावहारिक कार्य चर्चा
• सतत् व्यापक मूल्यांकन
• शिक्षण सामग्री/उपकरण
• समस्याएं

UPTET 2018 सिलेबस पेपर 2

I. बाल विकास और अध्यापन [30 प्रश्न]

(क) बाल विकास (कक्षा 6 से 8, 11 से 14 आयु समूह के लिए प्रासंगिक) [15 प्रश्न]

• विकास की अवस्था तथा अधिगम से उसका संबंध
• बालक के विकास के सिद्धांत ।
• आनुवांशिकता और पर्यावरण का प्रभाव सामाजिकीकरण दबाव: सामाजिक विश्व और बालक (शिक्षक, अभिभावक और मित्रगण)
• पाइगेट, कोलबर्ग और वायगोट्स्की : निर्माण और विवेचित संदर्श
• बाल-केन्द्रित और प्रगामी शिक्षा की अवधारणाएं
• बौद्धिकता के निर्माण का विवेचित संदर्श
• बहु-आयामी बौद्धिकता
• भाषा और चिंतन
• समाज निर्माण के रूप में लिंग: लिंग भूमिकाएं. लिंग-पूर्वाग्रह और शैक्षणिक व्यवहार शिक्षार्थियों के मध्य वैयक्तिक विभेद, भाषा, जाति, लिंग, समुदाय, धर्म आदि की विविधता पर आधारित विभेदों को समझना।
• अधिगम के लिए मूल्यांकन और अधिगम के मूल्यांकन के बीच अंतर, विद्यालय आधारित मूल्यांकन, सतत एवं व्यापक मूल्यांकन : संदर्श और व्यवहार
• शिक्षार्थियों की तैयारी के स्तर के मूल्यांकन के लिए, कक्षा में शिक्षण और विवेचित चिंतन के लिए तथा शिक्षार्थी की उपलब्धि के लिए उपयुक्त प्रश्न तैयार करना।

॥. भाषा I [30 प्रश्न]

(क) भाषा बोधगम्यता [15 प्रश्न]

अनदेखे अनुच्छेदों को पढ़ना – दो अनुच्छेद एक गद्य अथवा नाटक और एक कविता जिसमें बोधगम्यता, निष्कर्ष, व्याकरण और मौखिक योग्यता से संबंधित प्रश्न होंगे (गद्य अनुच्छेद साहित्यिक, वैज्ञानिक, वर्णनात्मक अथवा तर्कमूलक हो सकता है)

(ख) भाषा विकास का अध्यापन [15 प्रश्न]

• अधिगम अर्जन |
• भाषा अध्यापन के सिद्धांत
• सुनने और बोलने की भूमिका, भाषा का कार्य तथा बालक इसे किस प्रकार एक उपकरण के रूप में प्रयोग करते हैं। मौखिक और लिखित रूप में विचारों के संप्रेषण के लिए किसी भाषा के अधिगम में व्याकरण की भूमिका पर विवेचित संदर्श
• एक भिन्न कक्षा में भाषा पढ़ाने की चुनौतियां: भाषा की कठिनाइयां, त्रुटियां और विकार
• भाषा कौशल
• भाषा बोधगम्यता और प्रवीणता का मूल्यांकन करना : बोलना, सुनना, पढ़ना और लिखना
• अध्यापन – अधिगम सामग्रियां: पाठ्यपुस्तक, मल्टी मीडिया सामग्री, कक्षा का बहुभाषायी संसाधन
• उपचारात्मक अध्यापन

भाषा – ॥ [30 प्रश्न]

(क) बोधगम्यता [15 प्रश्न]

दो अनदेखे गद्य अनुच्छेद (तर्कमूलक अथवा साहित्यिक अथवा वर्णनात्मक अथवा वैज्ञानिक) जिनमें बोधगम्यता, निष्कर्ष, व्याकरण और मौखिक योग्यता से सम्बन्धित प्रश्न होंगे।

(ख) भाषा विकास का अध्यापन [15 प्रश्न]

• अधिगम और अर्जन
• भाषा अध्यापन के सिद्धांत
• सुनने और बोलने की भूमिका, भाषा का कार्य तथा बालक इसे किस प्रकार एक उपकरण के रूप में प्रयोग करते हैं
• मौखिक और लिखित रूप में विचारों के संप्रेषण के लिए किसी भाषा के अधिगम में व्याकरण की भूमिका पर विवेचित संदर्श
• एक भिन्न कक्षा में भाषा पढ़ाने की चुनौतियां भाषा की कठिनाईयां, त्रुटियां और विकार
• भाषा कौशल
• भाषा बोधगम्यता और प्रवीणता का मूल्यांकन करना: बोलना, सुनना, पढ़ना और लिखना
• अध्यापन- अधिगम सामग्री: पाठ्यपुस्तक, मल्टीमीडिया सामग्री, कक्षा का बहुभाषायी संसाधन
• उपचारात्मक अध्यापन

Iv (क) गणित एवं विज्ञान [60 प्रश्न]

(I) गणित [30 प्रश्न]

(क) विषय-वस्तु [20 प्रश्न]
• अंक प्रणाली ।
(I) अंकों को समझना
(Ii) अंकों के साथ खेलना
(Iii) पूर्ण अंक
(Iv) नकारात्मक अंक और पूर्णाक
(V) भिन्न

बीजगणित

(I) बीजगणित का परिचय
(Ii) समानुपात और अनुपात

ज्यामिति

(I) मूलभूत ज्यामितिक विचार (2-डी)
(I) बुनियादी आकारों को समझना
(Iii) सममिति ।
(Iv) निर्माण (सीधे किनारे वाले मापक, कोणमापक, परकार का प्रयोग करते हुए)

• क्षेत्रमिति

(I) आंकड़ा प्रबंधन

(ख) अध्यापन संबंधी मुद्दे [10 प्रश्न]

• गणितीय/तार्किक चिंतन की प्रकृति
• पाठ्यचर्या में गणित का स्थान
• गणित की भाषा
• सामुदायिक गणित
• मूल्यांकन
• उपचारात्मक शिक्षण
• शिक्षण की समस्याएं

(Ii) विज्ञान [30 प्रश्न]

(क) विषय-वस्तु [20 प्रश्न]

• भोजन
• भोजन के स्रोत
• भोजन के घटक
• भोजन को साफ करना
• सामग्री
• दैनिक उपयोग की सामग्री
• जीवित प्राणियों की दुनिया
• चीजें, लोगों और विचारों को स्थानांतरित करना
• चीज़ें कैसे काम करती है
• इलेक्ट्रिक सर्किट
• चुंबक
• प्राकृतिक घटना
• प्राकृतिक संसाधन

(ख) अध्यापन संबंधी मुद्दे [10 प्रश्न]

• विज्ञान की प्रकृति और संरचना
• प्राकृतिक विज्ञान/लक्ष्य और उद्देश्य
• विज्ञान को समझना और उसकी सराहना करना
• दृष्टिकोण/एकीकृत दृष्टिकोण प्रेक्षण/प्रयोग/अन्वेषण (विज्ञान की पद्धति)
• अभिनवता
• पाठ्यचर्या सामग्री/सहायता-सामग्री
• मूल्यांकन – संज्ञात्मक/मनोप्रेरक/प्रभावन
• समस्याएं
• उपचारात्मक शिक्षण

Download Syllabus Primary | Junior

यूपीटीईटी सिलेबस और एग्जाम पैटर्न (पेपर 1 और 2)  2018

हमने इस पोस्ट में UP TET Exam Pattern Syllabus 2018 की पूरी जानकारी देने की कोशिश की है जो उम्मीदवार इसकी परीक्षा में उपस्थित होने जा रहे हैं,उसके के लिए UPTET Exam Pattern Syllabus  2018 बहुत महत्वपूर्ण है .इसलिए उम्मीदवार को सलाह दी जाती है वह परीक्षा से पहले UP TET Exam Pattern Syllabus 2018 को जरुर देखे .और जैसे ही एग्जाम की तारीख रिलीज होंगी तो हम हमारी इस पोस्ट में उसे अपडेट कर देंगे तो आप समय समय पर हमारी इस पोस्ट को चेक करते रहे.

इस इस पोस्ट में आपको  uptet syllabus 2018 pdf uptet syllabus 2018 in hindi pdf download UPTET Syllabus 2018 for Paper I & II with Exam Pattern UPTET Syllabus 2018, Latest Exam Pattern Paper I & II Uttar Pradesh Teacher Eligibility Test Exam Pattern UP TET 2018 detailed Syllabus Exam Pattern 2018  यूपीटीईटी सिलेबस इन हिंदी  के बारे में बताया गया है इस अलावा आपका कोई भी सवाल या सुझाव है तो नीचे कमेंट करके जरुर पूछे .

1 Comment
  1. Asheesh says

    क्या UPTET 2018 के प्रथम प्रश्न पत्र (प्राइमरी) के syllabus का ऑफिसियल लिंक या syllabus की ओफ़्फ़िकैल कॉपी मिल पायेगी ?

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Don\'t Try To Copy ! Content is protected !!