Class 7th Science Chapter 12 – पादप में जनन

Class 7th Science Chapter 12 – पादप में जनन

बहुत से विद्यार्थी हर साल सातवीं की परीक्षा देते है ,लेकिन बहुत से विद्यार्थी के अच्छे अंक प्राप्त नही हो पाते जिससे उन्हें आगे एडमिशन लेने में भी दिक्कत आती है .जो विद्यार्थी सातवीं कक्षा में पढ़ रहे है उनके लिए यहां पर एनसीईआरटी कक्षा 7 विज्ञान अध्याय 12 (पादप में जनन) के लिए सलूशन दिया गया है.यह जो NCERT Solutions for Class 7th Chapter 12 Reproduction in Plants दिया गया है वह आसन भाषा में दिया है .ताकि विद्यार्थी को पढने में कोई दिक्कत न आए . इसकी मदद से आप अपनी परीक्षा में अछे अंक प्राप्त कर सकते है.पादप में जनन के बारे में जानकारी होना हमारे सामान्य ज्ञान के लिए भी महत्वपूर्ण है .इसलिए आप Ch. 12 पादप में जनन प्रश्नोत्तर विज्ञान को अच्छे से पढ़े .

अभ्यास के प्रश्न-उत्तर

प्रश्न 1. रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए

(क) जनक पादप के कायिक भागों से नए पादप के उत्पादन का प्रक्रम ………….कहलाता है।
(ख) ऐसे पुष्पों को, जिनमें केवल नर अथवा मादा जनन अंग होता है …………….. पुष्प कहते हैं।
(ग) परागकणों का उसी अथवा उसी प्रकार के अन्य पुष्प के परागकोश से वर्तिकाग्र पर स्थानांतरण का प्रक्रम :………. कहलाता है।
(घ) नर और मादा युग्मकों का युग्मन ……… ……. कहलाता है।
(च) बीज प्रकीर्णन …………………………;……………………….और …………….के द्वारा होता है।

उत्तर. (क) कायिक जनन, (ख) द्विलिंगी, (ग) परागण, (घ) निषेचन, (च) वायु, पानी, कीट।

प्रश्न 2. अलैंगिक जनन की विभिन्न विधियों का वर्णन कीजिए। प्रत्येक का उदाहरण दीजिए।

उत्तर. अलैंगिक जनन में नर तथा मादा की आवश्यकता नहीं होती। इसमें जीव स्वयं अपनी संख्या में वृद्धि करते। हैं। अलैंगिक जनन की विभिन्न विधियाँ निम्नलिखित हैं|
1. मुकुलन–पूर्ण विकसित पौधे के शरीर पर एक उभार की तरह की संरचना बन जाती है, जिसे मुकुल कहते हैं। शरीर की कोशिका में से केंद्रक दो भागों में विभाजित हो जाता है तथा इनमें से एक केंद्रक मुकुल में आ जाता है। मुकुल पैतृक जीव के शरीर से पृथक् हो जाते हैं तथा वृद्धि करके पूर्ण विकसित जीव बन जाता है।

2. खंडन विधि-जलीय पादप जैसे शैवाल में खंडन विधि द्वारा गुणन होता है। शैवाल दो या दो से अधिक खंडों में विखंडित हो जाते हैं और प्रत्येक खंड, नए जीवन के रूप में वृद्धि करने लगता है। यह प्रक्रम निरंतर चलता रहता है।

3. कायिक प्रवर्धन-बीजों के बिना पौधों के किसी कायिक बहुकोशिक भाग से नए पौधे उत्पन्न करके वंश चलाना कायिक प्रवर्धन कहलाता है। यह मुख्यतः दो प्रकार का है—(1) प्राकृतिक कायिक प्रवर्धन तथा (2) कृत्रिम कायिक प्रवर्धन।
(1) प्राकृतिक कायिक प्रवर्धन-प्रकृति में पौधों की जड़, तना, पत्तों आदि पर उपस्थित कलिकाओं से नए पौधे पैदा करना प्राकृतिक कायिक़ जनन कहलाता है; जैसे आलू, अदरक, पत्थरचट्ट आदि।

(2) कृत्रिम कायिक प्रवर्धन-रोपण द्वारा, कलम लगाकर या दाब कलम लगाकर मनुष्य स्वयं भी अपने प्रयत्नों से पौधों को तैयार करता रहता है। इस प्रक्रिया को कृत्रिम कायिक प्रवर्धन कहते हैं; जैसे गुलाब, आम आदि।

4. बीजाणु निर्माण विधि– कवकों में बीजाणुओं द्वारा जनन होता है। कवकों के बीजाणु वायु में उपस्थित रहते हैं। ये उच्च ताप व निम्न आर्द्रता जैसी प्रतिकूल परिस्थिति को भी झेलने के लिए अनुकूल होते हैं। इनकी रक्षा एक कठोर सुरक्षात्मक कवच (आवरण) करता है। जीवाणु लंबे समय तक जीवित रह सकते हैं। अनुकूल परिस्थितियों को पाकर जीवाणु अंकुरित होते हैं और नए जीव को जन्म देते हैं। मॉस और फर्न
में बीजाणुओं द्वारा जनन होता है।

प्रश्न 3. पादपों में लैंगिक जनन के प्रक्रम को समझाइए।

उत्तर. पौधों में नर युग्मक पुंकेसर में और मादा युग्मक स्त्रीकेस्र में विद्यमान होता है। परागण क्रिया में नर युग्मक, मादा युग्मक के संपर्क में आता है और दोनों युग्मकों का संयुक्त होना निषेचन कहलाता है। निषेचन के उपरांत युग्मनज बनता है। जो बीज बनने की प्रथम अवस्था है। बीज से नए पादप का जन्म होता है। इन बीजों से विकसित पादपों में अपने पैतृक पादपों के समान गुणधर्म होते हैं। लैंगिक जनन में जनन के उपरांत भी माता-पिता अपने शिशु के रूप में जीवित रहते हैं।

प्रश्न 4. अलैंगिक और लैंगिक जनन के बीच प्रमुख अंतर बताइए।

उत्तर. अलैंगिक और लैंगिक जनन में निम्नलिखित अंतर हैं|

अलैंगिक जनन लैंगिक जनन
1. इसमें जीव अकेला ही वंश वृद्धि करता है।

2. इसमें निषेचन की क्रिया नहीं होती।

3. इससे उत्पन्न संतान में नए गुण उत्पन्न नहीं हो सकते है

4. यह जनन निम्न श्रेणी के पादपों में पाया जाता है।

5. इनमें बीजों की आवश्यकता नहीं होती।

6. प्रायः पैतृक पादप जनन उपरांत अदृश्य हो रहता है।

1. इसमें नर और मादा दोनों जीवों की आवश्यकता पड़ती है।

2. इसमें निषेचन की क्रिया होती है।

3. इससे उत्पन्न संतान में नए गुण पैदा हो सकते हैं।

4. यह जननं उच्च श्रेणी के पादपों में पाया जाता है।

5. इनमें बीजों की आवश्यकता होती है।

6. पैतृक पादप जनन उपरांत संतान के रूप में जीवित जाता है।

प्रश्न 5. किसी पुष्प का चित्र खींचकर उसमें जनन अंगों को नामांकित कीजिए।

उत्तर.

प्रश्न 6. स्व-परागण और पर-परागण के बीच अंतर बताइए।

उत्तर. स्व-परागण और पर-परागण में अंतर निम्नलिखित हैं

स्व-परागण। पर-परागण
1. इसमें परागकण उसी फूल के या उसी पौधे के दूसरे फूल के स्त्रीकेसर के वर्तिकाग्र तक पहुँचते हैं।

2. परागकणों के नष्ट होने की संभावना कम होती है।

3. इस विधि द्वारा उत्पन्न बीज अधिक स्वस्थ नहीं होते हैं।

4. इनमें नई जातियाँ उत्पन्न नहीं होतीं।

1. इसमें परागकण किसी दूसरे पौधे के फल के वर्तिकाग्र, पर पहुँचते हैं।

2. परागकणों के नष्ट होने की संभावना अधिक होती है।

3. इस विधि द्वारा उत्पन्न बीज अधिक स्वस्थ होते।

4. इनमें नई जातियाँ उत्पन्न होती हैं।

प्रश्न 7. पुष्पों में निषेचन का प्रक्रम किस प्रकार संपन्न होता है?

उत्तर. सभी परागकणों की भीतरी रचना प्रायः मिलती-जुलती होती है। प्रत्येक परागकण के दो चोल होते हैं-आंतरिक चोल तथा बाह्य चोल। जब परागकण वर्तिकाग्र पर गिरता है तो अंकुरित होने लगता है और तब बाह्य चोल टूट जाता है। इस नलिका को परागनली कहते हैं। परागनली बीजाणु द्वारा बीजांड में प्रवेश करती है और भ्रूणकोश तक पहुँच जाती है। जनन नाभिक दो नर नाभिकों में बँट जाता हैं। इनमें से एक नर नाभिक अंड कोशिका के साथ मिलता है, इसे निषेचन कहते हैं।

प्रश्न 8. बीजों के प्रकीर्णन की विभिन्न विधियों का वर्णन कीजिए।

उत्तर. बीजों का प्रकीर्णन-प्रकृति में बीजों का एक स्थान से दूसरे स्थान पर बिखरना बीज प्रकीर्णन कहलाता है। बीज प्रकीर्णन निम्नलिखित विधियों द्वारा होला है
1. वायु द्वारा-कुछ हल्के रोमयुक्त बीज; जैसे आक (मदार), सूरजमुखी, सेहिजन (ड्रमस्टिक) तथा द्विफल (मैपिल) के बीज़ हल्के होने के कारण बहती वायु के साथ दूर-दूर तक फैल जाते हैं।
2. जल द्वारा-जिन फलों का आवरण स्पंजी तथा तंतुमयी होता है। वे जल में तैरते हुए एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुँच जाते हैं, जैसे नारियल।

3. जंतुओं द्वारा–कुछ काँटेदार बीज जिनमें हुक जैसी संरचना होती है, जंतुओं के शरीर से चिपक जाते हैं और जंतु इन्हें दूर स्थानों तक बिखेर देते हैं; जैसे यूरेना एवं जैन्थियम।
4, फलों के फटने द्वारा-एरंड और बाल्सम के फल तेज झटके के साथ फटते हैं और इनमें स्थित बीजों का प्रकीर्णन | हो जाता है। बीज जनक पौधे से दूर जाकर गिरते हैं।

प्रश्न 9. कॉलम A में दिए गए शब्दों का कॉलम B में दिए गए जीवों से मिलान कीजिए|.
कॉलम A कॉलम B
(क) कली/मुकुल

(ख) आँख

(ग) खंडन

घ) पंख

(च) बीजाणु

(i) मैपिल

(ii) स्पाइरोगाइरा

(ii) यीस्ट

((iv) डबलरोटी की फफूद

(v) आलू

(vi) गुलाब

उत्तर.

कॉलम A कॉलम B
(क) कली/मुकुल

(ख) आँख

(ग) खंडन

घ) पंख

(च) बीजाणु

(ii) यीस्ट

(v) आलू

(ii) स्पाइरोगाइरा

(i) मैपिल

((iv) डबलरोटी की फफूद

 

प्रश्न 10. सही विकल्प पर (C) निशान लगाइए

(क) पादप का जनन भाग होता है, उसका
(i) पत्ती/पर्ण
(ii) तना
(iii) मूल
(iv) पुष्प

(ख) नर और मादा युग्मक के युग्मन का प्रक्रम कहलाता है
(i) निषेचन
(ii) परागण
(iii) जनन
(iv) बीज निर्माण
(ग) परिपक्व होने पर अंडाशय विकसित हो जाता है।
(i) बीज में ।
(i) पुंकेसर में
(iii) स्त्रीकेसर में
(iv) फल में
(घ) बीजाणु उत्पन्न करने वाला एक पादप जीव है
(i) गुलाब
(i) डबलरोटी की फफूद
(iii) आलू
(iv) अदरक
(च) ब्रायोफिलम अपने जिस भाग द्वारा जनन करता है, वह है
(i) तना
(ii) पत्ती
(iii) मूल
(iv) पुष्प ।

उत्तर. (क) (iv), (ख) (i), (ग) (iv), (घ) (ii), (च) (ii)।

अति-लघुत्तरात्मक प्रश्न ..

प्रश्न 1. जनन किसे कहते हैं?

उत्तर. वंश चलाने की क्रिया को जनन कहते हैं।

प्रश्न 2. किस विधि द्वारा जीवों की एक पीढ़ी का दूसरी पीढ़ी में निरंतर संबंध बना रहता है?

उत्तर. जनन क्रिया द्वारा।

प्रश्न 3. सजीव जनन क्यों करते हैं?

उत्तर. अपने जैसी संतान उत्पन्न करके वंश चलाने के लिए।

प्रश्न 4. जनन कितने प्रकार का होता है?

उत्तर. जनन दो प्रकार का होता है-(1) अलैंगिक जनन, (2) लैंगिक जनन।

प्रश्न 5. प्राकृतिक कायिक जनन के तीन प्रकार लिखें।

उत्तर. (1) जड़ द्वारा, (2) तने द्वारा, (3) पत्तियों द्वारा।

प्रश्न 6. पादप के जनन भाग क्या होते हैं?

उत्तर. पादप के जनन भाग पुष्प होते हैं।

प्रश्न 7. कायिक प्रवर्धन किसे कहते हैं?

उत्तर. पौधे के कायिक भागों (मूल, तना, पत्ता, कली आदि) से होने वाला जनन कायिक प्रवर्धन कहलाता है।

प्रश्न 8. ब्रायोफिलम तथा कैलेन्चो में कायिक जनन कैसे होते हैं?

उत्तर. पत्तों पर उपस्थित अपस्थानिक कलिकाओं द्वारा।

प्रश्न 9. जड़ द्वारा कायिक जनन का एक उदाहरण लिखें।

उत्तर. शकरकंदी व डहेलिया।

प्रश्न 10. तने द्वारा कायिक जनन का एक उदाहरण लिखें। अथवा उन दो पौधों के नाम लिखिए जिनमें कायिक जनन होता है।

उत्तर. आलू व अदरक।

प्रश्न 11. पत्तियों द्वारा कायिक जनन का एक उदाहरण लिखें।

उत्तर. अजूबा (पत्थरचट्ट) में।

प्रश्न 12. आलू जड़ है या तना।

उत्तर. आलू तना है।

प्रश्न 13. कायिक कलिकाएँ किसे कहते हैं?

उत्तर.पत्तियों के कक्ष में जो कलिकाएँ होती हैं और अंकुरों के रूप में विकसित हो सकती हैं, कायिक कलिकाएँ कहलाती हैं।

प्रश्न 14. कायिक प्रवर्धन का एक लाभ लिखें।

उत्तर. इंस प्रक्रिया द्वारा कम समय में नया पौधा उगाया जा सकता है।

प्रश्न 15. फलदार पौधे किस विधि द्वारा बनाए जाते हैं?

उत्तर. कृत्रिम अलैंगिक, जनन विधि द्वारा।

प्रश्न 16. पौधों में कौन-सा जनंन पाया जाता है?

उत्तर. पौधों में कायिक जनन पाया जाता है।

प्रश्न 17. किस जनन में नर और मादा की आवश्यकता नहीं होती?

उत्तर. अलैंगिक जनन में।

प्रश्न 18. मुकुलन किसे कहते हैं?

उत्तर. जो जनन मुकुल या कली (प्रवर्ध) द्वारा होता है, उसे मुकुलन कहते हैं।

प्रश्न 19. मुकुलन द्वारा जनन किस पादप में पाया जाता है?

उत्तर. यीस्ट में।

प्रश्न 20. खंडन जनन किसे कहते हैं?

उत्तर. एक जीव के हुए अनेकों खंडों से नए जीवों की वृद्धि खंडन जनन कहलाता है।

प्रश्न 21. खंडन जनन किस जीव में पाया जाता है?

उत्तर. स्पाइरोगाइरा नामक शैवाल में।

प्रश्न 22. किस पादप के बीजाणु वायु में पाए जाते हैं?

उत्तर. कवकों के।

प्रश्न 23. किस-किस पौधे में बीजाणु द्वारा जनन संभव है?

उत्तर. मॉस और फर्न में।

प्रश्न 24. लैंगिक जनन किसे कहते हैं?

उत्तर. जिस जनन में नर युग्मक और मादा युग्मक की आवश्यकता पड़े, उसे लैंगिक जनन कहते हैं।

प्रश्न 25. पुष्पी पौधे में लैंगिक जनन किसके द्वारा होता है?

उत्तर. फूल द्वारा (बीज बनने से)।

प्रश्न 26. फूल में पौधे के मादा भाग को क्या कहते हैं?

उत्तर. स्त्रीकेसर।

प्रश्न 27. फूल में पौधे के नर भाग को क्या कहते हैं?

उत्तर. पुंकेसर।

प्रश्न 28. युग्मक कितने प्रकार के होते हैं? नाम लिखें।

उत्तर. दो प्रकार के–(1) नर युग्मक (शुक्राणु), (2) मादा युग्मक (अंडाणु)।

प्रश्न 29. एकलिंगी फूल वाले पौधों के नाम लिखें।

उत्तर. ककड़ी, पपीता, खरबूजा, खीरा आदि।

प्रश्न 30. द्विलिंगी फूल वाले पौधों के नाम लिखें।

उत्तर. मटर, टमाटर, बैंगन आदि।

प्रश्न 31. पादप का नर युग्मक कहाँ बनता है?

उत्तर. परागकणों में (परागकोश में स्थित)।

प्रश्न 32. पादप का मादा युग्मक कहाँ होता है?

उत्तर. अंडाशय में (स्त्रीकेसर में स्थित)।

प्रश्न 33. नर तथा मादा युग्मकों के मिलने की क्रिया को क्या कहते हैं?

उत्तर. निषेचन।

प्रश्न 34. युग्मनज किसे कहते हैं?

उत्तर. नर तथा मादा युग्मकों के मिलने से बनने वाली कोशिका को युग्मनज कहते हैं।

प्रश्न 35. परागण क्रिया क्या होती है?

उत्तर. जब एक फूल का परागकण उसी जाति के दूसरे फूल के वर्तिकाग्र में गिरता है, तो इस क्रिया को परागण क्रिया कहते हैं।

प्रश्न 36. परागण कितने प्रकार का होता है?

उत्तर. दो प्रकार का-(1) स्व-परागण, (2) पर-परागण ।

प्रश्न 37. पर-फ्रागण के दो प्राकृतिक साधनों के उदाहरण दें।

उत्तर. वायु व कीट।

प्रश्न 38. मनुष्य द्वारा की गई परागण क्रिया को क्या कहते हैं?

उत्तर. कृत्रिम परागण।

प्रश्न 39. निषेचन किसे कहते हैं?

उत्तर. नर युग्मक और मादा युग्मक का संयोग निषेचन कहलाता है।

प्रश्न 40. निषेचित कोशिका को क्या कहते हैं?

उत्तर. युग्मनज।

प्रश्न 41. निषेचन क्रिया के पश्चात युग्मनज से क्या बनता है?

उत्तर. भ्रूण।

प्रश्न 42. स्त्रीकेसर के नीचे वाले मोटे भाग को क्या कहते हैं?

उत्तर. अंडाशय।

प्रश्न 43. बीजांड के परिपक्व होने से क्या बनता है?

उत्तर. बीज।

प्रश्न 44. फल कैसे बनता है?

उत्तर. निषेचन के उपरांत अंडाशय फल में विकसित हो जाता है।

प्रश्न 45. बीज में क्या होता है?

उत्तर. भ्रूण।

प्रश्न 46. दो कठोर फलों के नाम लिखें।

उत्तर. बादाम, अखरोट

प्रश्न 47. नवोद्भिदों के बीच स्पर्धा को कैसे कम किया जा सकता है?

उत्तर. पादपों के बीजों के प्रकीर्णन द्वारा।

प्रश्न 48. बीजों के प्रकीर्णन में सहायक कारकों के नाम लिखें।

उत्तर. पवन, जल व जंतु।

प्रश्न 49. पवन द्वारा किन पादपों में प्रकीर्णन होता है?

उत्तर. सेहिजन, मैपिल व मदार में।

प्रश्न 50. मदार (ऑक) का बीज कैसा होता है?

उत्तर. हल्का व रोम युक्त।

प्रश्न 51. जल द्वारा किस पौधे के बीज प्रकीर्णित होते हैं?

उत्तर. नारियल के।

प्रश्न 52. जंतुओं के शरीर के साथ चिपककर प्रकीर्णन करने वाले कौन-कौन से पौधों के बीज हैं?

उत्तर. यूरेना एवं जैन्थियम।

प्रश्न 53. फल झटके के साथ फटने के कारण, किन पौधों के बीज प्रकीर्णित होते हैं?

उत्तर. एरंड और बाल्सम के।

प्रश्न 54. पर-परागण के प्रमुख साधनों के नाम लिखें।

उत्तर. (1) कीटों द्वारा, (2) वायु द्वारा, (3) जल द्वारा, (4) पक्षियों द्वारा, (5) प्राणियों द्वारा।

इस पोस्ट में आपको नसरत सोलूशन्स फॉर साइंस क्लास 7th चैप्टर 12. पादपों में जनन एनसीईआरटी समाधान कक्षा 7 विज्ञान अध्याय 12 पादप में जनन पादप में जनन प्रश्न उत्तर Class 7 Science in hindi Medium chapter 12. पादपों में जनन class 7 science chapter 12 in hindi reproduction in plants class 7 questions and answers class 7 science chapter 12 notes class 7 science chapter 12 pdf से संबंधित पूरी जानकारी दी गई है अगर इसके बारे में आपका कोई भी सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट करके हम से जरूर पूछें और अगर आपको यह जानकारी फायदेमंद लगे तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Don\'t Try To Copy ! Content is protected !!